DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लखनऊ विश्वविद्यालय की डिस्पेंसरी में आयुर्वेद का इलाज भी मिलेगा

- पहली बार लखनऊ विश्वविद्यालय में बैठेंगे आयुर्वेद के डॉक्टर - अभी तक मरीजों को मिल रहा था होम्योपैथिक और एलोपैथ का इलाज लखनऊ। निज संवाददाता लखनऊ विश्वविद्यालय की डिस्पेंसरी में अब आयुर्वेद का इलाज भी मिल सकेगा। इसके लिए आयुर्वेद डॉक्टर की तैनाती कर दी गई है। अभी तक डिस्पेंसरी में एलोपैथ और होम्योपैथ के डॉक्टर ही मरीजों का इलाज कर रहे थे। अब विश्वविद्यालय में तीनों पैथी के डॉक्टर मरीजों का इलाज करेंगे। इससे विश्वविद्यालय के छात्रों, कर्मचारी और शिक्षकों को लाभ मिलेगा। आयुर्वेद डॉक्टर की गई तैनाती लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति के निर्देश पर डिस्पेंसरी में आयुर्वेद के डॉक्टर की तैनाती कर दी गई है। राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय टूड़ियागंज के प्रधानाचार्य डॉ. सुदीप सहाय बेदार ने अस्पताल के डॉ. संजीव रस्तोगी की ड्यूटी लगाई है। डॉ. संजीव प्रत्येक सोमवार को दोपहर 12 से दो बजे तक लखनऊ विश्वविद्यालय की डिस्पेंसरी में मरीजों का इलाज करेंगे। आयुर्वेद पद्धति से इलाज को मरीज को कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। इसमें ज्यादातर घरेलू उपायों से मरीजों का इलाज किया जाता है। 2500 से अधिक लोगों को मिलेगा लाभ एलोपैथ और होम्योपैथ के डॉक्टर डिस्पेंसरी में रोजाना बैठकर मरीजों का इलाज कर रहे हैं। अब आयुर्वेद के डॉक्टर भी एक दिन बैठकर मरीजों का इलाज करेंगे। इससे करीब 2500 कर्मचारियों, शिक्षकों और उनके परिवारीजनों को इलाज मिलेगा। साथ ही लखनऊ विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को भी लाभ मिलेगा। वर्जन चंद्रशेखर हास्टल के पास बनी डिस्पेंसरी में आयुर्वेद के डॉक्टर भी इलाज करेंगे। यह सुविधा सोमवार से शुरू की जा रही है। अभी तक एलोपैथ और होम्योपैथ के डॉक्टर मरीजों का इलाज कर रहे थे। इससे मरीजों को लाभ मिलेगा। प्रो. राज कुमार सिंह, डीन स्टूडेंट वेलफेयर, लखनऊ विश्वविद्यालय

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ayurved lu