Ayodhya Terrorist Attack: Terrorist groups do not have sleeper cell clues - अयोध्या आतंकवादी हमला : आतंकी संगठनों के स्लीपर सेल का नहीं लगा सुराग DA Image
15 नबम्बर, 2019|4:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या आतंकवादी हमला : आतंकी संगठनों के स्लीपर सेल का नहीं लगा सुराग

पांच जुलाई 2005 को अधिग्रहीत परिसर के मेक शिफ्ट स्ट्रक्चर में विराजमान रामलला के अस्थाई मंदिर को उड़ाने की साजिश रचने वाले आतंकवादी संगठन लश्करे तैय्यबा व जैश-ए-मोहम्मद के फिदाईन दस्ते के सदस्यों को सटीक टारगेट तक पहुंचाने वाले स्लीपर सेल का कोई सुराग नहीं लगा। आतंकी हमले के विवेचाधिकारी तत्कालीन क्षेत्राधिकारी अजीत सिन्हा ने मारे गए आतंकियो के पास से मिले मोबाइल  नम्बर 9839440910 के लोकेशनों के आधार पर जांच की थी।  हमले की साजिश रचने वाले पांचों आतंकी पुलिस की गिरफ्त में आए थे। 

पुलिस को प्राप्त मोबाइल के लोकेशन से सबसे पहले सहारनपुर निवासी डॉ. इरफान का पता चला। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया था तो उसी के शिनाख्त के आधार पर शेष चारो को जम्मू-कश्मीर से पकड़ा गया था। आतंकी हमले के प्रकरण की पैरवी करने वाले तत्कालीन डीजीसी क्रिमिनल ओपी सिन्हा बताते हैं कि डॉ. इरफान ने यह बताया कि उसके यहां दवा लेने आने वाले शमीम ने उनका परिचय अरशद व उसके भाई अमीन के साथ साक्षी से मिलवाया था। उसने यह भी माना कि यह लोग बाबरी मस्जिद की शहादत का बदला लेने की बात कर रहे थे।

वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीसिन्हा ने बताया कि आतंकी अम्बेडकरनगर के अकबरपुर के शहजादपुर मोहल्ले में अशोक सोनी नामक स्थानीय व्यक्ति के यहां किराए पर कमरा लेकर वहीं रहने लगे। दो मई 2005 से लेकर 18 मई 2005 तक बराबर रेकी करते रहे और घटना का अंजाम देने की पूरी फूलप्रूफ योजना बनाई। फिर पांच जुलाई 2005 को अयोध्या आए। रामजन्मभूमि के अधिग्रहीत परिसर में विस्फोट कर प्रवेश करने से पहले उन लोगों ने हायर की गई कमांडर जीप के मालिक/चालक को छोड़ दिया। इसके बाद कोटेश्वरनाथ मंदिर की ओर बढ़े और अधिग्रहीत परिसर की बैरीकेडिंग को कमांडर जीप की टक्कर से उड़ा दिया। 

लखनऊ से खरीदा था एयरबैग
अयोध्या में आतंकी हमला करने वालों ने लखनऊ के कैसरबाग में निशात मार्केट से एयरबैग खरीदा था। यह बात सामने आने पर एसटीएफ के अधिकारी जब इस दुकान पर पहुंचे तो उन्हें और कई जानकारियां मिली थी। इसके बाद ही कड़ियां जुड़ती गई और आरोपियों के बारे में पुख्ता सुबूत हाथ लग गये थे।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya Terrorist Attack: Terrorist groups do not have sleeper cell clues