DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या आतंकवादी हमला : वनवास पूरा हुआ और अजीज को बरी किया

मंगलवार फैसले की घड़ी। जगह-नैनी सेंट्रल जेल। दोपहर-तीन बजे। जेल के अंदर लगी अदालत। फैसले का इंतजार। फैसला सुनाने से पहले जज ने एक बुजुर्ग आरोपी की तरफ देखा और पूछा कि रामचंद्र को कितने साल का वनवास हुआ था। तुम्हारा वनवास कब पूरा हो रहा है। जब फैसला सुनाया तो बुजुर्ग की आंखें भर आईं। 14 साल  वनवास पूरा होने पर उसे रिहा कर दिया। 

नैनी जेल में सबकी निगाहें अदालत पर लगी थीं। मंगलवार दोपहर पौने तीन बजे जेल के अंदर अदालत लगी। सुनवाई शुरू हुई है। वहां पर जज दिनेश चंद्र, शासकीय अधिवक्ता गुलाब चंद्र अग्रहरि, बचाव पक्ष के वकील शमशुल इस्लाम और पेशकार शैलेन्द्र श्रीवास्तव, स्टेनो रविंद्र कुमार, अर्दली सुरेश, कोर्ट मुहर्रिर और पांचों आरोपी मो. अजीज, नसीम, मो. शकील, आशिक इकबाल, डॉक्टर इरफान, जेल प्रशासन के अधिकारी और पुलिस मौजूद रही।

फैसला सुनाने से पहले ही जज ने पांचों आरोपियों में सबसे बुजुर्ग मो. अजीज से पूछा कि रामचंद्र को कितने साल का वनवास हुआ था। मो. अजीज ने कहा, साहब उनको 14 वर्ष का वनवास हुआ था। जज ने फिर पूछा, तुम्हारी उम्र कितनी है? मो. अजीज ने 63 साल बताया। कोर्ट ने तीसरा सवाल किया, तुम्हारा 14 साल कब पूरा हो रहा है? अजीज ने कहा, साहब जुलाई 2019 में 14 साल पूरा हो जाएगा। इसके बाद कोर्ट ने फैसला सुनाया। सबसे पहले यह कहा कि मो. अजीज का वनवास पूरा हो चुका है। उसे इस मुकदमे से बरी किया जा रहा है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya Terrorist Attack: Exile completes and acquittals Aziz