अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या बस अड्डा अधर में अटका, पार्किंग पर ध्यान केंंद्ररित

हाईवे के किनारे मांझा बरहटा क्षेत्र में अन्तरराष्ट्रीय रामकथा संकुल की भूमि पर प्रस्तावित पर्यटन विभाग के यात्री बस अड्डे का निर्माण अधर में अटक गया है। राजनैतिक पेशबंदी के दबाव में आकर जिला प्रशासन के अफसरों ने घुटना टेक दिया है। वह भी तब जबकि उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग रामकथा संकुल के लिए वर्ष 2010-11 में ही जमीन की खरीद कर चुका है। इस जमीन के तीन तरफ बाउंड्री का निर्माण कर घेराबंदी भी कर दी गई है।
इस भूमि में कैबिनेट के निर्देशानुसार संस्कृति विभाग ने पर्यटन विभाग को करीब पांच एकड़ भूमि का हस्तान्तरण भी कर चुका है। यही नहीं बंदोबस्त अधिकारियों व राजस्व कर्मियों ने भूमि की पैमाइश दो-दो बार कराकर बंटवारा भी कर दिया है। बावजूद इसके भूमि पर काम शुरू नहीं हो सका। 
कार्यदाई संस्था के ठेकेदार मेसर्स अभिलाषा इंटरप्राइजेज के प्रबंधक यशवंत सिंह का कहना है कि काम शुरू करते ही काश्तकारों ने रोक दिया। वह बताते हैं कि बार-बार अधिकारियों से अनुरोध किया जा रहा है कि पुलिस फोर्स के माध्यम से आवंटित जमीन की घेराबंदी करा दी जाए लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
बताया गया कि आवंटित भूमि के अतिरिक्त संस्कृति विभाग और पर्यटन विभाग को पौन एकड़-पौन एकड़ के लिहाज से करीब डेढ़ एकड़ जमीन और खरीदनी है। इसके लिए शासन में प्रस्ताव भेजा जा चुका है लेकिन इसके चलते खरीदी गई पूरी भूमि से ही सरकारी संस्था बेदखल है। इसके विपरीत जमीन बेचने वाले काश्तकार ही उस जमीन पर काबिज ही नहीं बल्कि उस पर पूरी दबंगई के साथ खेती भी करा रहे हैं। दरअसल खाले पुरवा की घटना के बाद पुलिस अधिकारियों ने बिना लिखा-पढ़ी के कहीं भी किसी भूमि सम्बन्धित विवाद में हाथ डालने से साफ इन्कार कर दिया है। वहीं अधिकारी भी अपनी जान बचा रहे हैं।
यही कारण है कि पर्यटन विभाग के क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी बृजपाल सिंह ने बस अड्डे से ध्यान हटाकर पार्किंग स्थल के निर्माण के लिए प्रयास शुरू कर दिया है। बताया गया कि बालू घाट बरहटा के पास 56 गुणा 73 मीटर भूमि का चिह्नांकन किया जा चुका है। अब इस भूमि को आपसी सहमति से खरीदने के लिए काश्तकारों से बातचीत की जा रही है। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी श्री सिंह ने बताया कि पार्किंग स्थल का निर्माण कार्य 12 करोड़ की लागत से प्रस्तावित है। यहां करीब 20 बसों की पार्किंग के अलावा बस स्टाफ के लिए कैंटीन, यात्री सुविधाओं का विकास, यात्रियों के सामानों की सुरक्षा के लिए डारमेटरी का निर्माण, टायलेट ब्लाक व दुकानों का भी निर्माण कराया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya bus stand stuck focusing on parking