DA Image
14 अप्रैल, 2021|10:20|IST

अगली स्टोरी

अयोध्या : अयोध्या-बाराबंकी रेल लाइन का विद्युतीकरण जल्द

default image

रेल लाइन के दोहरीकरण व अयोध्या रेलवे स्टेशन को देश का सबसे बड़ा स्टेशन बनाने को लेकर चल रहे कार्यों के बीच केन्द्र सरकार ने अयोध्या से बाराबंकी के बीच रेल लाइन को विद्युतीकृत करने की योजना स्वीकृत की है। यह जानकारी बुधवार को पूर्वोत्तर रेलवे के परियोजना निदेशक सुधांशु कृष्ण ने दी। उन्होंने बताया कि विद्युतीकरण कार्य का टेण्डर हो चुका है, शीघ्र ही कार्य आरम्भ होगा।

इससे पहले रेलवे के नार्दन जोन के सुरक्षा आयुक्त अभय कुमार राय ने पूर्वोत्तर रेलवे के अन्तर्गत मनकापुर से कटरा स्टेशन होते हुए अयोध्या के रामघाट हाल्ट स्टेशन तक कराए गये रेल लाइन के विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण किया। निरीक्षण कार्य रामघाट हाल्ट स्टेशन के निकट रामसेवकपुरम किमी. 37 पर बनाए गये विद्युत सब स्टेशन के प्रांगण में पूजन के साथ आरम्भ हुआ।

भारी बारिश के कारण पूजन कार्यक्रम स्थल पर पानी भर गया। इसी के चलते पूजन की औपचारिकता का निर्वाह किया गया।

सीआरएस श्री राय के निरीक्षण में गोरखपुर से विशेष सैलून से यहां पहुंचीं पूर्वोत्तर रेलवे की डीआरएम विजय लक्ष्मी ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि सीआरएस के निरीक्षण और क्लीयरेंस के बाद कटरा तक इलेक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन संभव हो सकेगा। उन्होंने बताया कि अभी तक डीजल इंजन से संचालित ट्रेनें ही कटरा तक आ रही हैं। उन्होंने बताया कि इलेक्ट्रिक ट्रेनों के इंजन को गोरखपुर में बदलना पड़ता था। उन्होंने बताया कि गोरखपुर-लखनऊ रेल खंड पड़ पड़ने वाला मनकापुर रेलवे स्टेशन पहले से ही विद्युतीकृत है। उन्होंने बताया कि कटरा स्टेशन होते विद्युतीकरण कराया गया है।

नार्दन जोन के रेलवे सुरक्षा आयुक्त श्री राय ने बताया कि 37 किमी. विद्युतीकृत सेक्शन के निरीक्षण की शुरुआत हो रही है। पूरे सेक्शन के निरीक्षण के बाद इस खंड पर इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलाने के बारे में निर्णय लिया जाएगा। इससे पहले रेलवे के परियोजना निदेशक सुधांशु कृष्ण ने स्पष्ट किया कि जब तक अयोध्या रेलवे स्टेशन तक विद्युतीकरण कार्य पूरा नहीं होगा, इलेक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि बाराबंकी से अयोध्या के बीच विद्युतीकरण कार्य की शुरुआत अयोध्या से होगी। इसका फायदा यह होगा अयोध्या स्टेशन का विद्युतीकरण होते ही यह स्टेशन विद्युतीकृत पूर्वोत्तर रेलवे से सीधे जुड़ जाएगा।