DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एटीएस ने अभी से संभाल ली कुम्भ मेले की सुरक्षा की कमान

मेले के दौरान एनएसजी भी रहेगी मौजूद, आपात स्थिति के लिए हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराने का प्रयास प्रमुख संवाददाता-राज्य मुख्यालय प्रयागराज कुंभ मेले में आतंकी हमले की साजिश विफल करने के लिए यूपी एटीएस ने अभी से मेले की सुरक्षा कमान अपने हाथ में ले ली है। एटीएस के ब्लैक कैट कमांडो दस्ते ने कुम्भ मेला परिसर में मॉक ड्रिल के साथ ही सुरक्षा का मोर्चा संभाल लिया है। मेला क्षेत्र अब 5 मार्च तक एटीएस के हवाले रहेगा। यूपी एटीएस के आईजी असीम अरुण ने बताया कि कुंभ 2019 में किसी भी प्रकार की आतंकवादी घटना रोकने के लिए पुख्ता प्रबंध किए जा रहे हैं। एटीएस की फील्ड इकाइयां सक्रिय हो चुकी हैं व षड्यंत्र की स्टेज से ही रोकथाम कर रही हैं। एटीएस ने पूर्व में आतंकियों के जो मॉड्यूल पकड़े थे उनसे पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ था कि आतंकी बड़े धार्मिक आयोजनों पर हमले की योजना बना रहे हैं। पिछले दिनों एटीएस ने हिज्ब-उल-मुजाहिदीन से जुड़े आतंकी कमरउज्ज़मां को कानपुर से गिरफ्तार था। इसके अलावा तीन बांग्लादेशी आतंकी भी गिरफ्तार किए गए थे। आतंकियों के और मॉड्यूल पर भी काम चल रहा है।उन्होंने बताया कि नेशनल सेक्योरिटी गार्ड्स (एनएसजी) की एक टीम पूरे समय प्रयागराज में उपलब्ध रहेगी। इनके लिए एयर फोर्स या बीएसएफ के हेलीकॉप्टर का प्रबंध करने का प्रयास शासन द्वारा किया जा रहा है। इसके साथ ही यूपी एटीएस की दो स्पॉट टीमें (स्पेशल पुलिस आपरेशंस टीम) मेला क्षेत्र में कैंप करेंगी। हर स्पॉट टीम में फाइटरों के साथ बम विशेषज्ञ, श्वान दल और स्नाइपर हैं। कुछ स्पॉट फाइटर मोटर साइकिलों पर होंगे ताकि वे तेजी से कहीं भी पहुंच सकें। इसी तरह कुछ स्पॉट फाइटर स्पीड बोट पर रहेंगे। इंटेलीजेंस का साझा ग्रुप बनेगा आईजी एटीएस ने बताया कि कुंभ पुलिस के 40 थानों पर एक एक क्यूआरटी नियुक्त रहेगी, इनका प्रशिक्षण स्पॉट द्वारा कराया जाएगा। जिला प्रयागराज पुलिस द्वारा अपनी स्वॉट (स्पेशल वीपंस एंड टैक्टिक्स) टीम तैयार की जाएगी जिसे स्पॉट प्रशिक्षित करेगी। मेला क्षेत्र के संयुक्त नियंत्रण कक्ष में कमांडो और क्यूआरटी से संबंधित कमान एक क्षेत्राधिकारी के पास होगी। संयुक्त अभिसूचना ग्रुप भी बनेगा, जिसमें सभी गुप्तचर संस्थाएं त्वरित गति से सूचनाएं शेयर करेंगी।मेले में आएंगे 15 करोड़ श्रद्धालु मेले में जन सुविधाओं एवं सुरक्षा के इंतजाम यह मानकर किए जा रहे हैं कि इसमें कम से कम 15 करोड़ लोग आएंगे। अगले साल 15 जनवरी से शुरू हो रहा कुम्भ मेला देश और दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन होगा। इस मेले में देश और विदेश से श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। मेला क्षेत्र लगभग 3200 हेक्टेयर में बसाया गया है जिसे व्यवस्था की दृष्टि से 20 सेक्टरों में बांटा गया है। सुविधा के लिहाज से मेला क्षेत्र चारों दिशाओं से खुला रखा जाएगा। हालांकि इससे मेले की सुरक्षा व्यवस्था की चुनौती और बढ़ जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ATS will command Kumbh Mela