अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1006 करोड़ ऋण के साथ 4095 परिवार स्वावलंबन से जुड़े

 'एक जिला-एक उत्पाद' (ओडीओपी) समिट के दौरान प्रदेश के 4095 परिवारों को 1006 करोड़ रुपये के ऋण वितरित किए गए। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इसकी शुरुआत की तो प्रदेश के सभी 75 जनपदों में आयोजित कार्यक्रमों में प्रभारी मंत्रियों ने लाभार्थियों को यह ऋण बांटे। 
ओडीओपी नई उड़ान और नई पहचान लघु फिल्म के माध्यम से प्रदेश के जिलों के कामगारों के हुनर को पर्दे पर दिखाया गया। संदेश दिया गया कि यह छोटे उद्योगों को बड़े उद्योग में बदलने की पहल है। मंच से राष्ट्रपति ने कानपुर के अतुल शर्मा को 35 लाख, कन्नौज के मोईन खान को 7.5 लाख और लखनऊ के मोहित वर्मा को 10 लाख रुपये ओडीओपी के लिए ऋण का चेक दिया। राष्ट्रपति द्वारा ऋण चेक देने के साथ ही पूरे प्रदेश में 4095 परिवारों को ऋण देकर स्वालंबन से जुड़ने का अवसर दिया गया। राष्ट्रपति ने गोरखपुर के राजन प्रजापति, मुरादाबाद के दिलशाह हुसैन तथा आगरा के इकबाल अहमद को 40-40 हजार रुपये मूल्य के टूल किट दिए। टूल किट मंच पर लाए नहीं जा सकते थे, इसलिए मंच से यह सांकेतिक रूप में दिया गया।
ओडीओपी को ये पांच संस्थाएं देंगी पहचान, हुआ करार
विप्रो जीई हेल्थकेयर, अमेजन इंडिया, क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) और बाम्बे स्टाक एक्सचेंज (बीएसई) के साथ एमओयू हुआ। मंच से अधिकारियों ने करार पत्र का हस्तांतरण किया। ये संस्थाएं ओडीओपी उत्पादों की मार्केटिंग, ब्रांडिंग आदि का काम करेंगी। 

ओडीओपी काल सेंटर के टोल फ्री नंबर का हुआ उद्घाटन
कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ओडीओपी के काल सेंटर नंबर का उद्घाटन पहला काल कर किया। बटन दबाकर ओडीओपी के वेबसाइट का भी उद्घाटन किया। उद्यमी काल सेंटर और वेबसाइट से ओडीओपी के बारे में सभी जानकारी घर बैठे हासिल कर सकेंगे। मंच से ओडीओपी काफी टेबल बुक का विमोचन राज्यपाल राम नाईक ने किया।

ओडीओपी से साकार होगा सबका साथ-सबका विकास: पचौरी
कार्यक्रम के शुरुआत में रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए प्रदेश के खादी ग्रामोद्योग, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सत्येदव पचौरी ने कहा कि प्रदेश में उत्पादन करने वाले गरीब परेशान रहे हैं। ओडीओपी प्रधानमंत्री के 'सबका साथ-सबका विकास' विजन को प्रदेश में साकार करेगा। 
श्री पचौरी ने कहा कि आज तक प्रदेश की किसी भी सरकार ने 'ओडीओपी' के लिए चयनित उत्पादों को बनाने वालों के उत्थान पर ध्यान नहीं दिया था। 'ओडीओपी' समिट का सारा श्रेय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जाता है। वे ना खुद बैठें और ना ही किसी को बैठने दिए। इस योजना से पं. दीन दयाल उपाध्याय की अंत्योदय योजना भी साकार होगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:associated with Swavalamban 1006 crore loans with 4095 families