ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश लखनऊविधानसभा की कार्यवाही:- यूपी पहले बीमारू राज्य था अब विकास कर रहा : आनंदीबेन पटेल

विधानसभा की कार्यवाही:- यूपी पहले बीमारू राज्य था अब विकास कर रहा : आनंदीबेन पटेल

फ्लैग....राज्यपाल ने अभिभाषण के बीच हंगामा कर रहे विपक्षी दलों को जमकर घेरा -विपक्ष...

विधानसभा की कार्यवाही:-
यूपी पहले बीमारू राज्य था अब विकास कर रहा : आनंदीबेन पटेल
हिन्दुस्तान टीम,लखनऊFri, 02 Feb 2024 06:45 PM
ऐप पर पढ़ें

फ्लैग....राज्यपाल ने अभिभाषण के बीच हंगामा कर रहे विपक्षी दलों को जमकर घेरा

-विपक्ष की जोरदार नारेबाजी के बीच राज्यपाल ने दी कई सख्त नसीहतें

खास-बातें

-42 पन्ने का अभिषाण 56.17 मिनट में पढ़ा

-विपक्ष को छह बार दीं सख्त नसीहतें

-भाषण के बीच में तीन बार पानी पिया

राज्यपाल की नसीहतें

-यूपी पहले बीमारू राज्य था अब देखो विकास कर रहा।

-जोर से बोले थक जाओगे, कुछ नहीं होगा।

-आप लोग नारा लगाने में लगे रहे और सत्ता पक्ष देखो कहां पहुंच गया

-कौन जाएगा वक्त बताएगा, मैं कहीं नहीं जाने वाली

-अनुसूचित जाति के लिए किए गए कामों को तो सुन लीजिए

लखनऊ-विशेष सवाददाता

विधानमंडल के बजट सत्र की शुरुआत शुक्रवार को हंगामेदार हुई। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा विधानमंडल के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित करने के दौरान विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया तो राज्यपाल ने भी अपने 56 मिनट के भाषण में छह बार उन्हें संसदीय परंपराओं का पालन करने की नसीहतें दे डालीं। तंज कसते हुए विपक्ष को घेरा और कहा कि सात साल पहले यूपी बीमारू राज्य था और अब देख लो कैसे विकास कर रहा है। उन्होंने सपा समेत सभी विपक्षी दलों द्वारा राज्यपाल गो-बैक का नारा लगाने का भी करारा जवाब दिया। बोलीं: यह वक्त बताएगा कि कौन जाएगा, मैं कहीं नहीं जाने वाली।

सदन की कार्यवाही जैसे ही 11 बजे शुरू हुई तो भाजपा सदस्यों ने जमकर जय श्रीराम...सियावर रामचंद्र की जय के नारे लगाए। इस पर सपा सदस्यों ने ‘जय समाजवाद...जय भीम के नारे लगाने शुरू कर दिए। राज्यपाल का अभिभाषण शुरू होने से पूर्व ही सपा, कांग्रेस व रालोद और बसपा सदस्य वेल में उतर आए थे। उन्होंने जोरदार नारेबाजरी शुरू कर दी। सपा सदस्य अपने हाथों में नारे लिखे तख्तियां लिए हुए थे। उन पर लिखा था...नहीं हुई मुफ्त सिंचाई...ईडी-सीबीआई और बुलडोजर का आतंक बंद करो..। पीडीए ही एनडीए को हराएगा...।

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने 11.06 बजे अभिभाषण की शुरुआत की। उन्होंने एक-एक कर सरकारी की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश देश में कई मोर्चों पर पहले स्थान पर रहा है लेकिन विपक्षी दलों ने सरकार विरोधी नारेबाजी के साथ लगातार ‘राज्यपाल गो-बैक-गो बैक के नारे लगाना जारी रखा। इस पर राज्यपाल ने टिप्पणी करते हुए कहा...और जोर से बोलो थक जाओगे...। कुछ नहीं होगा..। इसके बाद जैसे ही अनुसूचित जाति के लिए किए गए कार्यों का उल्लेख करने की बारी आई तो आनंदीबेन पटेल ने फिर नसीहत दी। बोलीं- ‘अनुसूचित जाति के लिए किए गए कामों को तो सुन लीजिए...। दरअसल, सपा सदस्य बार-बार जय भीम जय समाजवाद...के नारे लगा रहे थे तो उन्होंने कहा कि आप लोग नारे ही लगाते रह गए और सत्ता पक्ष देखो कहां से कहां पहुंच गया।

जाएगा कौन वक्त बताएगा, मैं कहीं नहीं जाने वाली

विपक्षी दल इस पर भी शांत नहीं हुए वे नारे लगाते रहे। इस पर राज्यपाल ने एक बार फिर विपक्ष को करारा जवाब दिया। उन्होंने कहा-‘जाएगा कौन यह तो वक्त बताएगा...मैं कहीं नहीं जाने वाली...। इस पर अपनी सीट पर बैठे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी हंसी नहीं रोक सके। विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना भी मुस्कुराते रहे। वहीं भाजपा विधायक जोर से जय श्रीराम का नारा लगाया और मेजें थपथपा कर राज्यपाल का समर्थन करते रहे। अभिभाषण के करीब आधा घंटे बाद जब सपा सदस्य नहीं थमे तो राज्यपाल ने अति पिछड़ों के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं पर फोकस करना शुरू किया। उन्होंने सपा सदस्यों को एक बार फिर घेरते हुए कहा-‘देख लो सात साल पहले यूपी बीमारू राज्य था और आज विकसित हो रहा है। राज्यपाल 42 पन्ने का अपना भाषण लगातार पढ़ती रहीं। उन्होंने तीन बार पानी पिया और बिना थके भाषण जारी रखा। यह बात दीगर है कि बीच-बीच में विपक्षी सदस्यों का जोश फीका पड़ता रहा और रुक-रुक कर नारेबाजी धीमी होती रही।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें