DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखनऊकेजीएमयू के 94% डॉक्टर-कर्मचारियों में मिली एंटीबॉडी

केजीएमयू के 94% डॉक्टर-कर्मचारियों में मिली एंटीबॉडी

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊNewswrap
Sun, 20 Jun 2021 07:20 PM
केजीएमयू के 94% डॉक्टर-कर्मचारियों में मिली एंटीबॉडी

-केजीएमयू अपने डॉक्टर-कर्मचारियों की करा रहा एंटीबॉडी जांच

-अब तक 1395 स्वास्थ्य कर्मियों की हो चुकी है जांच

रोजाना 300 से 400 स्वास्थ्य कर्मचारियों के खून के नमूने लिए जा रहे

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

डॉक्टर-कर्मचारियों के शरीर में कोरोना एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए केजीएमयू में लगातार जांच हो रही है। अब तक 1395 डॉक्टर-कर्मचारियों की जांच हुई। इसमें 94 प्रतिशत डॉक्टर व कर्मचारियों में कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी पाई गई है। छह फीसदी डॉक्टर-कर्मचारियों में एंटीबॉडी नहीं बनी हैं। इनमें पांच प्रतिशत ने वैक्सीन की दोनों डोज भी ले रखी है। एक प्रतिशत ने किन्हीं कारणों से वैक्सीन नहीं लगवाई है।

केजीएमयू के ब्लड एंड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग एंटीबॉडी की जांच कर रहा है। यह जांच सिर्फ केजीएमयू के डॉक्टर व कर्मचारियों की हो रही है। रोजाना 300 से 400 स्वास्थ्य कर्मचारियों के खून के नमूने लिए जा रहे हैं। कई प्रक्रिया से गुजरने के दो से तीन बाद जांच रिपोर्ट आ रही है।

दूसरी लहर में 500 लोग पड़े बीमार

केजीएमयू में करीब 450 डॉक्टर हैं। 1000 रेजिडेंट डॉक्टर तैनात हैं। पांच हजार संविदा, ढाई हजार नियमित कर्मचारी व पैरमेडिकल स्टाफ हैं। सबसे पहले हेल्थ वर्कर के टीकाकरण के निर्देश आए। इस लिहाज से जनवरी से अभियान चलाकर अस्पताल में काम करने वाले सभी डॉक्टर-कर्मचारियों का टीकाकरण किया गया। कोरोना की दूसरी लहर में केजीएमयू के 500 से ज्यादा डॉक्टर-कर्मचारी पॉजिटिव हो गए थे। अब सभी डॉक्टर कर्मचारी ठीक हैं।

तीन माह बाद फिर होगी जांच

एंटीबॉडी शरीर में कितने दिनों तक बरकरार रहती हैं, इसका पता लगाया जाएगा। इसके लिए तीन माह बाद दोबारा फिर से अभियान चलाकर एंटीबॉडी की जांच की जाएगी। केजीएमयू ब्लड एंड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की अध्यक्ष डॉ. तूलिका चन्द्रा के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद एंटीबॉडी न बनने का सही कारण का पता नहीं है। पर, वैक्सीन लगने के बाद भी कुछ लोगों में एंटीबॉडी नहीं बनती है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें