DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एंटी रोमियो स्क्वायड की सक्रियता बढ़ाने के निर्देश

डीजीपी ओपी सिंह ने स्कूल-कॉलेजों का नया शैक्षिक सत्र शुरू हो जाने के कारण सभी जिलों में एंट रोमियो स्क्वायड की सक्रियता बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा है कि सार्वजनिक स्थानों जैसे स्कूल, कॉलेज, बाजार, मॉल, पार्क, बस स्टैण्ड व रेलवे स्टेशन पर आपत्तिजनक गतिविधियां करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए सादे वस्त्रों में पुलिसकर्मियों की तैनाती की जाए। इसमें महिला पुलिस कर्मी भी शामिल की जाएं। थानाध्यक्ष व क्षेत्राधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में स्थित बालिका विद्यालयों व कालेजों के प्रधानाचार्यों व अध्यापकों के सम्पर्क में रहेंगे। इसके लिए समय-समय पर उनके साथ गोष्ठी कर समन्वय स्थापित करते हुए उनसे शोहदों व मनचलों के बारे में जानकारी एकत्रित की जाए।

चिह्नित करें छेड़खानी वाले स्थान :

डीजीपी ने कहा है कि प्रत्येक स्क्वायड में नियुक्त महिला कर्मी सादे वस्त्रों में तथा प्राइवेट वाहनों से सार्वजनिक स्थलों पर घूमकर ऐसे स्थानों को चिह्नित करें, जहां मनचलों के द्वारा आपत्तिजनक हरकतें की जाती हैं। शहर के बाहरी छोर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में आबादी से दूर स्थित बालिकाओं के विद्यालयों या कोचिंग संस्थानों को एंटी रोमियो स्क्वायड के कार्यक्षेत्र में अवश्य रखा जाए। आवश्यकतानुसार टीम के सदस्यों की बदली कर लगाया जाए ताकि टीम के सदस्यों की पहचान उजागर न हो। प्रत्येक महिला महाविद्यालय या बालिका विद्यालय में एक शिकायत पेटिका लगवायी जाए। महिला विद्यार्थियों के बीच इसको प्रचारित-प्रसारित कराया जाए। यदि कोई व्यक्ति उन्हें अथवा अन्य महिलाओं को किसी खास रास्ते अथवा जगह पर परेशान करता है तो इस संबंध में वे अपनी शिकायत पेटिका में डाल सकती हैं।

उन्होंने कहा है कि जो युवक आपत्तिजनक गतिविधियों में लिप्त पाए जाएं उन्हें पहले कड़ी हिदायत देते हुए प्राथमिक रूप से सुधारात्मक कार्यवाही की जाए। सुधारात्मक उपाय विफल होने पर अथवा अपराध की गम्भीरता पाए जाने पर सीआरपीसी की धारा 151 व 110 तथा आईपीसी की धारा 294 व 354 के अलावा गुण्डा एक्ट के तहत भी कार्रवाई की जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Anti Romio squad wii be effective