DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेठी : शाहमऊ से घर लौट रहे युवक की गला रेतकर हत्या

मोहनगंज क्षेत्र के नरायनपुर गांव के निकट शुक्रवार को देर शाम शाहमऊ कस्बे से घर लौट रहे एक ग्रामीण की गला रेतकर हत्या कर दी गई। घटना की जानकारी सुबह तब हुई, जब लोगों ने उसका शव पड़ा देखा। हत्या का कारण पता नहीं चल पाया है। मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्या ने हत्या का खुलासा जल्द किए जाने का निर्देश थाना पुलिस को दिया है।
नरायनपुर निवासी देवदत्त मिश्र का 42 वर्षीय पुत्र मुकेश कुमार मिश्र शुक्रवार को देर शाम शाहमऊ से लौट रहा था और रास्ते में उसके गांव के निकट सुनसान स्थल पर पहले से घात लगाए हमलावरों ने गला रेतकर उसकी हत्या कर दी। हत्या किसने और क्यों की इसके बारे में न परिजन ही कुछ बता पा रहे हैं और न ही पुलिस किसी नतीजे पर पहुंची है। ग्रामीणों ने पुलिस को यह जरूर बताया कि इधर काफी दिनों से मुकेश को नशे की लत लग गई थी। मुकेश के भतीजे प्रदीप कुमार ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। उधर, पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्या ने एएसपी बीसी दुबे के साथ घटनास्थल का मुआयना किया तथा परिजनों और ग्रामीणों से जानकारियां लीं। उन्होंने थानाध्यक्ष डीके सिंह से कहा है कि वे हत्या का जल्द खुलासा करते हुए हत्यारों को गिरफ्तार करें। मुकेश की हत्या से क्षेत्र में सनसनी है। 

 10 साल पहले बड़े भाई की हुई थी हत्या
मोहनगंज थाने की पुलिस ने जो जानकारी जुटाई है, उसके मुताबिक करीब 10 साल पहले वर्ष 2008 में मुकेश के बडे़ भाई सुरेश मिश्रा की भी हत्या कर दी गई थी। सुरेश मिश्रा पेशे से शिक्षक थे। सुरेश की हत्या भी घर लौटते समय हुई थी और उसकी हत्या गोली मारकर की गई थी। उस मामले को भी पुलिस ने अपने हिसाब से कुछ लोगों को जेल भी भेजा था। सुरेश की हत्या के मामले में भी भतीजे प्रदीप ने एफआईआर दर्ज कराई थी। पुलिस उस मामले की भी जांच पड़ताल कर रही है कि कहीं मुकेश की हत्या के तार उस घटना से तो नहीं जुड़े हुए हैं। हालांकि अभी तक इस बात का कोई साक्ष्य नहीं मिला है।

जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ा था मुकेश
वर्ष 2015 में मुकेश कुमार मिश्र ने शंकरगंज क्षेत्र से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव भी लड़ा था। यह बात और रही कि वह जीत नहीं पाया। वह किसी पार्टी से जुड़ा नहीं था, उसने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा था। इसी दौरान उसकी संगत बिगड़ गई और वह नशे का लती बन गया। बताते हैं कि क्षेत्र में नशे का कारोबर भी फैला हुआ है और इस काले कारोबार के संचालकों से भी उसके संबंध हो गए थे। इस हत्याकांड के पीछे नशे के कारोबार को भी जोड़कर देखा जा रहा है। बताते हैं कि मुकेश पहले एक प्रतिभाशाली युवक था, लेकिन नशे की लत ने उसे चौपट कर दिया।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Amethi: youth murder in Amethi