DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेठी : ग्रामीणों ने स्कूल में बंद कर दिए आवारा पशु

आवारा पशु लोगों के लिए सरदर्द बने हैं। सोमवार को जामों कोतवाली क्षेत्र के पछेला गांव के ग्रामीणों ने दर्जनों पशुओं को प्राथमिक विद्यालय में बंद कर दिया। सुबह जब प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका पहुंची तो अंदर पशु खड़े थे। उन्होंने मामले की सूचना ग्राम प्रधान को दी। बाद इसकी सूचना एसडीएम व डीएम को दी गयी। जिस पर एसडीएम व सीवीओ ने मौके पर पहुंचकर पशुओं को गोशाला भेजवाया। इस दौरान पूरे दिन बच्चों की पढ़ाई बाधित रही।

आवारा पशुओं के आतंक से लोग परेशान हैं। लोग इनसे निजात पाने के लिए कुछ भी करते जा रहे हैं। सोमवार को पछेला गांव के ग्रामीणों ने रात में ही कई पशुओं को गांव के प्राथमिक विद्यालय में अंदर बंद कर बाहर से ताला बंद कर दिया। सुबह जब बच्चे स्कूल पहुंचे तो पशुओं को देख बाहर खड़े हो गए। स्कूल की प्रधानाध्यापिका निशा कश्यप ने मामले की जानकारी गांव के प्रधान व खंड शिक्षाधिकारी को दी। सूचना पर एसडीएम गौरीगंज अमित कुमार सिंह, नायब तहसीलदार वीके सिंह मौके पर पहुंचे। 

सीवीओ डा.रमेश पाठक भी अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। अंदर 18 पशु ग्रामीणों द्वारा बंद किए गए थे। एसडीएम ने पशुओं को पशु पालन विभाग की सुपुर्दगी में देते हुए नजदीकी गौशाला भेजवाए जाने की व्यवस्था की। इस दौरान विद्यालय का संचालन पूरी तरह से बाधित रहा। एसडीएम ने बताया कि ज्यादातर पशुओं के गले में रस्सी थी। पशु आसपास के गांवों के ही हैं। लोग पशुओं को छोड़कर खुद समस्या पैदा कर रहे हैं।

नहीं बना एमडीएम
पशुओं के अंदर होने से बच्चे अंदर नहीं जा सके। पूरे दिन बच्चों की पढ़ाई बाधित रही। वहीं बच्चों का एमडीएम भी नहीं बन सका। जिससे बच्चों को भूखे घर लौटना पड़ा। एसडीएम ने जामों पुलिस के अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर करने के निर्देश दिए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Amethi: Villagers locked animals in school