DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अम्बेडकरनगर : कर्ज के बोझ से दबे किसान की हार्ट अटैक से मौत

दुखद

किसान की मौत से परिजनों पर टूटा पहाड़

ग्रामीण बैंक की शाखा से तीन लाख का लिया था कर्ज

कर्ज चुकाने के लिए बैंक से मिल रही थी नोटिस

देवरिया बाजार (अम्बेडकरनगर) हिन्दुस्तान संवाद

आलापुर तहसील क्षेत्र में कर्ज के बोझ से दबे एक गरीब किसान की सदमे से हार्ट अटैक होने से मौत हो गई। गरीब किसान की मौत से पूरे परिवार पर मानो पहाड़ सा टूट पड़ा हो। बैंक की तरफ से कर्ज चुकाने के लिए किसान को बार-बार नोटिस दिया जा रहा था।

आलापुर तहसील क्षेत्र के अमड़ी गांव निवासी दलित किसान जियालाल (48) पुत्र निहोर ने गोविंद साहब में स्थित बड़ौदा पूर्वी उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक से तीन लाख कर्ज लेकर गोविंद साहब में ही किराने की दुकान चलाता था। दो बेटियों की शादी करने एवं अन्य पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते वह समय से कर्ज नहीं जमा कर पाया था और धीरे-धीरे उसकी दुकान भी टूट गई। इधर बैंक से बार-बार कर्ज चुकाने का नोटिस मिल रहा था। बैंक ने कर्ज के समाधान के लिए लोक अदालत में केस भी कर दिया था। 14 सितंबर को लोक अदालत में तारीख भी थी। इधर बैंक कर्मी बार-बार उसके घर जाकर इस बार किसी भी हाल में कर्ज जमा करने का दबाव बना रहे थे।

गत सोमवार को भी शाखा प्रबंधक ने उसे कर्ज जमा करने की चेतावनी देते हुए कहा था कि उसकी तारीख को कर्ज नहीं जमा हुआ तो जेल भी जाना पड़ेगा, जिससे जियालाल को काफी सदमा पहुंचा। कर्ज के बोझ से वह पहले से ही परेशान चल रहा था। अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। परिजन उसे नेवरी बाजार स्थित एक निजी चिकित्सक यहां ले गए जहां से दवाई लेकर परिजन उसे लेकर घर आ गए। मंगलवार को दोपहर में अचानक फिर उसकी तबीयत खराब हो गई, जिससे परिजन उसे लेकर अतरौलिया स्थित एक निजी अस्पताल जा रहे थे, रास्ते में किसान को हार्ट अटैक पड़ा। अस्पताल पहुंचने पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बुधवार को चहोड़ा घाट पर ग्रामीणों की मौजूदगी में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

इनसेट की खबरें

प्रशासन को नहीं है जानकारी

एसडीएम भरत लाल सरोज ने इस मामले की जानकारी होने से इन्कार किया है। कहा कि कर्ज के बोझ से दबे किसान की मौत हुई है, इस मामले की जांच कराकर पीड़ित परिवार की शासन से हरसंभव मदद कराई जाएगी। वहीं बड़ौदा पूर्वी उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक की शाखा गोविन्द साहब के फील्ड आफीसर अमन सिंह ने बताया कि जियालाल ने किसान क्रेडिट कार्ड पर ऋण लिया था, लेकिन उसकी अदायगी नहीं हुई थी। प्रधान तुषार कान्त सिंह ने बताया कि करीब तीन लाख रुपए का कर्ज था। इससे सदमे में आए जियालाल की मौत हो गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ambedkarnagar The death of the farmer s by heart attack due to burden of debt