DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अखिलेश यादव बोले, चुनाव नजदीक आते ही भाजपा ने तेज की नफरत की राजनीति  

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि लोकसभा चुनाव नज़दीक आते ही भाजपा ने समाज को तोड़ने और तनाव पैदा करने की साजिशें तेज कर दी हैं। इसके लिए भाजपा नेता विवादास्पद बयान देकर प्रदेश में अशांति फैलाने और अराजक स्थिति पैदा करने में लग गए हैं। नफरत की राजनीति तेज हो गई है। 
अखिलेश यादव ने शनिवार को जारी बयान में कहा कि यह एक तथ्य है कि नफरत वाले बयान देने में 90 प्रतिशत भाजपा के नेता हैं। भाजपा के तमाम नेताओं में ऊँटपटांग बयान देने के मामले में लगता है उसने पुराने तरीके जाति-संप्रदाय की राजनीति को अपनाना शुरू किया है। भाजपा नेता यह समझने में भयंकर भूल कर रहे हैं कि बुनियादी मुद्दों से ध्यान हटाकर वे मतदाताओं को गुमराह करने में सफल हो जाएंगे।
  अखिलेश यादव ने कहा कि नोटबंदी से न भ्रष्टाचार न तो आतंकियों पर रोक लगी, न पत्थरबाजी रूकी और नहीं कालाधन खत्म हुआ। घरेलू बचत भी इससे समाप्त हो गई। कई औद्योगिक संस्थानों में बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की छंटनी भी हो गई। मतदाताओं ने तय कर लिया है कि वह अब प्रगति की ओर ही अपने कदम बढ़ाएगी। समाजवादी पार्टी की लोकप्रियता और ताकत में भाजपा जितने भी अवरोध पैदा करने की प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष कोशिशें कर लें उसमें उसे सफलता मिलने वाली नहीं है।
जनता को भाजपा सरकारों से कोई राहत तो मिली नहीं उल्टे मंहगाई बढ़ गई। डीजल, ईंधन गैस, खाद, कीटनाशक, बीज के साथ दालें तक मंहगी हो गई। जनता की दिक्कतें हजार गुना बढ़ गईं।   समाजवादी पार्टी लोकतंत्र, समाजवाद और धर्मनिरपेक्षता के लिए प्रतिबद्ध है। उसका मानना है कि देश का विकास होगा तो सभी खुशहाल होंगे। किसान और व्यापारी समृद्ध होगा तो अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी। भाजपा सरकार ने तो देश को अन्य देशों के मुकाबले पीछे कर दिया है। जो लोग विकास विरोधी हैं वे ही जनविरोधी कामों को बढ़ावा देने और संविधान के ढांचे को कमजोर करने का काम करते हैं। 
                                                        

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Akhilesh said that BJP started hatred politics