Tuesday, January 18, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखनऊअहमदाबाद की महिला व्यापारी को बंधक बना फिरौती मांगी

अहमदाबाद की महिला व्यापारी को बंधक बना फिरौती मांगी

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊNewswrap
Fri, 21 May 2021 10:40 PM
अहमदाबाद की महिला व्यापारी को बंधक बना फिरौती मांगी

व्यापार का झांसा देकर बुलाया था लखनऊ

ट्रांसपोर्ट नगर स्थित एक दफ्तर में बनाया गया था बंधक

बदमाशों के चंगुल से छुटने के बाद पीड़िता ने लिखाया मुकदमा

लखनऊ। संवाददाता

गुजरात से आई महिला व्यापारी को उसके साथी के साथ ट्रांसपोर्ट नगर स्थित एक दफ्तर में बंधक बना कर रखा गया। आठ घंटे तक दोनों लोगों को प्रताड़ित किया गया। महिला और उसके साथी को छोड़ने के एवज में दस लाख रुपये की फिरौती मांगी गई। इसके लिए आरोपियों ने महिला के एक परिचित को इंस्पेक्टर सरोजनीनगर बन कर फोन किया था। दबंगों के चंगुल में फंसी महिला किसी तरह से साथी संग भागने में सफल हो गई।सरोजनीनगर थाने पहुंच कर पीड़िता ने दो लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

स्टाकिस्ट बनने का झांसा देकर बुलाया

अहमदाबाद निवासी आशा जे मेहता एलइडी बल्ब का का व्यापार करती हैं। यूपी में स्टाकिस्ट बनाने के लिए वह काफी वक्त से कोशिश कर रही थीं।इस बीच उन्हें सौरभ मौर्य ने फोन किया। उसने स्टाकिस्ट बनाने में आशा की मदद करने की बात कही।साथ ही दोस्त रजत शुक्ल के बारे में जानकारी दी। जो स्टाकिस्ट बनने को तैयार था। बातचीत के दौरान सौरभ ने आशा से लखनऊ आने के लिए कहा था। 18 मई को आशा साथी अंकित रावल के साथ लखनऊ पहुंची।फोन करने पर सौरभ ने उसे ट्रांसपोर्ट नगर स्थित रजत के दफ्तर बुलाया। आशा और अंकित बताए गए पते पर पहुंच गए। आफिस में सौरभ के साथ रजत मौजूद था। कुछ देर व्यापार से जुड़ी की बात करने के बाद सौरभ और रजत कमरे से बाहर चले गए। उन्होंने दरवाजा भी बंद कर दिया था। साथ ही आशा और अंकित के मोबाइल फोन भी छीन लिए थे। आशा और अंकित के शोर मचाने पर वह लोग धमकाने लगे।आरोपियों ने आशा और अंकित पर दस लाख रुपये देने का दबाव बनाया।

इंस्पेक्टर बन महिला के परिचित को धमकाया

रुपये वसूलने के लिए रजत और सौरभ ने आशा के परिचित सुशील वर्मा को भी फोन किया था। रजत ने सुशील को अपनी पहचान इंस्पेक्टर सरोजनीनगर एसके यादव के तौर पर दी थी। आरोपी का दावा था कि दस लाख रुपये मिलने के बाद ही वह आशा और अंकित को छोड़ेगा।वरना दोनों के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया जाएगा। बदमाशों के चंगुल में फंसी आशा और अंकित रात तक दफ्तर में बंद रहे।देर रात किसी तरह से वह लोग पिछले हिस्से में लगे रोशनदान के जरिए बाहर निकलने में सफल हो गए। अन्जान शहर में महिला और उसका साथी राहगीरों से रास्ता पूछते हुए सरोजनीनगर थाने पहुंचे। इंस्पेक्टर के सामने पुरानी घटना बताई। गुजरात की महिला व्यापारी और उसके दोस्त को बंधक बना कर फिरौती मांगे जाने की खबर सुन कर पुलिस की हैरान रह गई। एक टीम ने रजत के दफ्तर पर छापा मारा। लेकिन रजत और सौरभ नहीं मिले। इस मामले में आशा की तहरीर पर ओम नगर निवासी सौरभ और पीजीआई वृंदावन कालोनी निवासी रजत शुक्ल के खिलाफ धोखाधड़ी, बंधक बनाने और फिरौती मांगने की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें