aaj ki khabr - नेताओं के वादों में ही कैद रही कैंट क्षेत्र की सीवर की समस्या DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेताओं के वादों में ही कैद रही कैंट क्षेत्र की सीवर की समस्या

default image

बीच शहर में होने के बावजूद आज तक नहीं बन पाया सीवर का नेटवर्क

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

कैंट क्षेत्र की सीवर की समस्या नेताओं के वादों में ही सिमटी रही। इस क्षेत्र की जनता ने कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी सहित कई दलों के नेताओं पर भरोसा किया। पर वह भरोसे पर खरे नहीं उतर सके। नतीजा आज ही यहां का 50% हिस्सा सीवर की सुविधा से दूर है।

कैंट विधानसभा क्षेत्र में फिर लोग विधायक चुनने जा रहे हैं। चुनाव की घोषणा के साथ ही वोट मांगने वाले नेता व उनके समर्थक दिखने लगे हैं। फिर से वह लोगों से विकास के वादे कर रहे हैं। आजादी के बाद 1951 से यहां की जनता अपना विधायक चुनती जा रही है। क्षेत्र ने कई नामी-गिरामी नेता दिए। जो आगे चलकर मंत्री, सांसद व केंद्रीय मंत्री तक बने। लेकिन क्षेत्र की सबसे बड़ी समस्या का निदान न करा पाए। आज भी यह समस्या सुरसा की तरह मुंह बाए खड़ी है। सीवर की समस्या से 50% क्षेत्र परेशान है। जिसकी वजह से लोगों को सेप्टिक टैंक बनवाना पड़ता है। भिलावा, ओमनगर, बरहा कॉलोनी, मुस्लिम नगर, आजाद नगर, मुंडावीर मंदिर, सुजानपुरा क्षेत्र सहित कई इलाके ऐसे हैं जहां अभी सीवर लाइन का पूरा नेटवर्क नहीं बन पाया है। कुछ जगहों पर थोड़ी थोड़ी जगह सीवर लाइनें पड़ी हैं जो आपस में कनेक्ट भी नहीं है।

-----------------

पिछले 30 साल से मैं कैंट क्षेत्र में वोट देता आ रहा हूं। तमाम नेताओं ने वादे किए लेकिन पूरा नहीं कराया। सीवर की समस्या बहुत बड़ी है।

संजय शुक्ला, आजाद नगर

---------------------

सीवर न होने की वजह से आज भी सेप्टिक टैंक में इसका निस्तारण किया जाता है। यह दुर्भाग्य है कि आज तक नेताओं ने इसके लिए कोई काम नहीं किया।

अनिल कुमार, बाबू कुंज बिहारी वार्ड

----------------

सीवर सबसे बड़ी समस्या पहले भी थी और आज भी है। बहुत दिक्कतें होती हैं। पीने के पानी की भी समस्या है।

रणधीर सिंह, सुजानपुरा,

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:aaj ki khabr