DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोमती किनारे डम्प हो रहा रोजाना सैकड़ों टन कचरा

शहर का कचरा गोमती को प्रदूषित कर रहा है। नगर निगम करी गाड़ियां अब भी चोरी छिपे नदी के किनारे कचरा डम्प कर रही है। रोजाना दर्जनों गाड़ियां शहर से दूर हरदोई रोड पर नदी के किनारे कचार नदी किनारे डम्प कर रही है। एलडीए की बसंत कुंज योजना के पास हजारों टन कचरा अब तक डम्प हो चुका है। बारिश होने पर कचरे का पानी जहरीला होकर नदी में जा रहा है। खुले में कचरा डालने से शहर की आबोहवा भी दूषित हो रही है।

शहर में कूड़े का निस्तारण नहीं हो पा रहा है। कूड़े के निस्तारण के लिए अब तक जो भी योजना बनी वह सभी फेल हो गयी है। शिवरी में बना नगर निगम का प्लांट आज भी सही तरीके से नहीं चल पा रहा है। यहां रोजाना 900 टन कचरे के निस्तारण का अधिकारी दावा कर रहे हैं लेकिन हकीकत इसके इतर है। कचरे का वैज्ञानिक तरीके से निस्तारण की बजाय इसे खाली प्लाटों व नदी के किनारे डम्प किया जा रहा है। नगर निगम ने जिस कम्पनी को काम दिया है वह न तो घर घर से कूड़ा उठा रही है और न इसका निस्तारण कर पा रही है। इसका नतीजा यह रहा कि कचरा इधर-उधर फेंका जा रहा है। गोमती नदी के किनारे हरदोई रोड पर कचरे के कई बड़े बड़े पहाड़ खड़े हो गए हैं। 2009 व 2010 में केंद्रीय संस्था नीरी ने भी गोमती किनारे कचरा डालने को खतरनाक बताया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:aaj