DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाराबंकी में फूड प्वाइजनिंग से 50 बच्चे बीमार

तेरहवीं का खाना खाने के बाद एक के बाद एक 50 बच्चे बीमार हो गए। बच्चों को अचानक उल्टी दस्त शुरु हो गई तो गांव में हड़कंप मच गया। सूचना पर पहुंची डाक्टरों की टीम ने बच्चों का इलाज शुरु किया। खास बात यह है कि इस भोज में बड़ों ने भी खाना खाया था, मगर वे बीमार नहीं हुए। फिलहाल बच्चों की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। फूड प्वाइजनिंग की इस घटना क बाद डाक्टर गांव में पूरा दिन जमे रहे।

देवा क्षेत्र के ग्राम पवैय्या वीरान की घटना :

घटना देवा थाना क्षेत्र के ग्राम पवैय्या वीरान की है। बीती रात स्व. मुनेश्वर रावत के घर पर तेरहवीं कार्यक्रम थी। इस मौके पर आयोजित होने वाले भोज में बने खाने में पूरी, सब्जी, छोला, चावल, दही रायता और रसगुल्ला बना था। रात में बच्चों ने यह खाना खाया और कुछ ही देर बाद उन्हें उल्टी दस्त शुरू हो गए। बच्चों की हालत बिगड़ी तो गांव में हड़कंप मच गया। गांव 5 साल के यश, नैना (10), पंखुरी (3), अंशुमान (1), विनय (3), विनीत (2), रिया (5), नितेश (6), रितेश (3), तनुज (7), प्रियांशी (3), हिमांशु (5), सोनाक्षी (5), सुधीर (9), गौरी (4), आशीष (8), अतुल (8) समेत करीब 50 बच्चों का उल्टी दस्त से बेहाल थे।

डाक्टरों ने टीम पहुंची :

सूचना पाकर देवा सीएचसी के अधीक्षक महमूद अहमद, हेल्थ सुपरवाइजर रामसिंह, डा. श्याम नारायण, स्वास्थ्य शिक्षाधिकारी महेन्द्र प्रताप यादव, एएनएम बीमा वर्मा आदि की टीम पवैय्या वीरान गांव गई। टीम ने यहां घंटो बच्चों का इलाज किया। उल्टी दस्त से पीड़ित बच्चों में 48 बच्चों को दवाएं दी गईं। जबकि दो का इलाज रानीगंज के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:50 children ill with food poisoning in Barabanki