DA Image
20 सितम्बर, 2020|3:48|IST

अगली स्टोरी

प्रदेश भर में चहुंओर बरसात फिर भी 10 जिले रह गए सूखे

default image

प्रमुख संवाददाता--राज्य मुख्यालयइस साल की वर्षा ऋतु में शुरुआत से 31 अगस्त तक प्रदेश में चहुओर बरसात हुई। मेघ जमकर बरसे जिसे खेत लहलहाने लगे लेकिन 10 जिले ऐसे रह गए जहां सम्भवत: इन्द्र की मेहरबानी नहीं हुई और ये सभी 10 जिले सूखे ही रह गए। मौसम एवं कृषि विभाग के आंकड़े कम से कम यही तस्दीक कर रहे हैं। जहां सोमवार तक 40 प्रतिशत से भी कम वर्षा हुई है। कृषि विशेषज्ञों की माने तो राजस्व के नियमों के अनुसार भी अब ये 10 जिले सूखा घोषित किए जाने योग्य हो चुके हैं और सम्भव है ये जिले सूखाग्रस्त घोषित कर भी दिए जाएं। विभागीय आंकड़ों के अनुसार इन जिलों में बारिश की कमी के कारण खरीफ की बुआई बुरी तरह से प्रभावित हुई है। कृषि निदेशक डा.ए.पी. श्रीवास्तव का कहना है कि वर्षां के आंकड़े के साथ-साथ प्रभावित जिलों की भौतिक स्थिति को देखकर विभाग की ओर से कार्यवाही शुरू कर दी गई। देर से बोए जाने वाले बीजों के अलावा अन्य जरूरी निवेशों की व्यवस्था कर दी गई है। संबंधित जिलों के जिला कृषि अधिकारियों व उप कृषि निदेशकों के अलावा अन्य संबंधित विभागों के अधिकारियों को भी वर्तमान स्थिति पर नजर रखने के साथ-साथ किसानों की सहायता के लिए कहा गया है। साथ ही शासन स्तर से भी इस बारे में निर्देश जारी कराए जाने का प्रयास किया जा रहा है। इन जिलों में है सूखे की स्थिति जहां 40 प्रतिशत से कम बरसात हुई है-जौनपुर, फतेहपुर, शाहजहांपुर, चन्दौली, सिद्धार्थनगर, गौतमबुद्धनगर, अम्बेडकरनगर, कौशाम्बी, कुशीनगर तथा महाराजगंज

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:10 districts still remain dry throughout the state