DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केजीएमयू की बिमार वुलेंस पर ढो रहें थे मरीज,जब्त

लखनऊ। राजाधानी में फर्जी एंबुलेंस का धंधा तेजी से फल-फूल रहा है। शनिवार को एक बार फिर केजीएमयू के नाम आरटीओ में रजिस्टर्ड एंबुलेंस वैन पकड़ी गई। इस बिमार एंबुलेंस पर बीते तीन वर्षों से मरीज ढो रहे थे। चेकिंग दलों की जांच पड़ताल में डालीगंज में पकड़ी गई। जिसका फिटनेस वर्ष 2015 में समाप्त हो गया था। इस एवुलेंस से कभी कोई हादसा हो सकता है। एंबुलेंस को मौके पर चालान करते हुए मडियांव थाने में बंद करा दिया।

यात्रीकर अधिकारी अनिता वर्मा ने चेकिंग करते हुए एंबुलेंस पकड़ा। चेकिंग दलों ने मौके पर एंबुलेंस संख्या यूपी 32 ईएन 2174 का चालान करते हुए सीज कर दिया। बीते दिनों अपर परिवहन आयुक्त सड़क सुरक्षा गंगाफल की मौजूदगी में ट्रामा सेंटर के बाहर आठ फर्जी एंबुलेंस पकड़े गए थे। जिन्हें एक माह तक नहीं छोड़ने के निर्देश चेकिंग दलों को दिए जाने के बाद एंबुलेंस मालिकों में खलबली मच गई थी।

डीएम की सख्ती पर 28 डीजल टेम्पो जब्त

शहर में काला धुंआ उगल रहे डीजल टेम्पो से नाराज डीएम ने आरटीओ चेकिंग दलों को सख्त निर्देश दिए थे कि डीजल टेम्पो हर हाल में शहर से बाहर किए जाए। शनिवार एआरटीओ प्रवर्तन संजीव गुप्ता के नेतृत्व में गैर जनपदों के 28 डीजल टैम्पो बंद किए गए। इनमें यात्रीकर अधिकारी केकी मिश्रा ने 18 व रवि त्यागी ने पीजीआई, शहीद पथ पर दस डीजल टैम्पो को पकड़ा। इन डीजल टेम्पो को पीजीआई, आशियाना, मड़ियांव, बीकेटी थानें में बंद कराया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: