DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चौधरी महाराज सिंह भारती अर्जक के जीवन को मंच पर उतारा

- सुगत सांस्क़ृतिक व सामाजिक संस्था की ओर से नाटक का हुआ मंचन - चौधरी महाराज सिंह भारती अर्जक के जीवन को मंच पर कलाकारों ने किया पेश लखनऊ। निज संवाददाता रूढ़वादी परंपराओं के विरोधी, प्रखर चिंतक व समाज की कुरीतियों के खिलाफ अपनी मुखर आवाज उठाने वाले वैज्ञानिक चौधरी महाराज सिंह भारती अर्जक के जीवन के प्रमुख प्रसंगों को कलाकारों ने मंच पर पेश किया। शनिवार को सुगत संस्था की ओर से नाटक का मंचन राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह में किया। ज्ञान आर्या के लिखे नाटक का निर्देशन कमल यादव ने किया। नाटक में कलाकारों ने चौधरी महाराज सिंह भारती अर्जक के जीवन के प्रमुख प्रसंगों को मंच पर साकार किया। नाटक का आगाज महाराज सिंह भारती के बचपन से होती है। स्कूल में अध्यापक जो भी पढ़ाते भारती एक बार में समझ लेते और इससे अध्यापक भी आश्चर्य में पड़ जाते थे। बचपन में ही वो गरीब बच्चों की मदद करते तो अमीर बच्चों से गरीबों की मदद करने का आह्वान करते थे। इसके बाद देश की स्वतंत्रता में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेना, आजादी की लड़ाई में दूसरों को शामिल करने के लिए प्रेरित करना जैसे उनके महत्वपूर्ण जीवन के प्रसंगों को उतारा इसके बाद चौधरी महाराज सिंह भारती अर्जक के राजनैतिक जीवन के साथ समाजसेवा के योगदान को दर्शाया। एक दुर्घटना में उनके पैर में चोट लग जाती है। इंदिरा गांधी के हालचाल न लेने से वो नाराज हो जाते है और धीरे धीरे राजनीति से दूरी बना लेते है और फिर अंतिम समय में किसानों के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। नाटक में सौरभ गौतम, अरुनेश मिश्रा, दिनेश कुमार शर्मा, आफताब अहमद, अनामिका सिंह और अनामिका शुक्ला ने अभिनय किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: