DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिव जी डोल रहे पर्वत पर गौरा महारानी संग...

-पति की दीर्घायु के लिए सुहागिनों ने खुशी संग की हरियाली तीज की पूजा

- कहीं सजी झांकी तो कहीं घर पर ही सोलह श्रंगार कर की पूजा अर्चना

निज संवाददाता, लखनऊ

मदहोश कर देती है हरियाली तीज की बहार जब पति की लंबी उम्र के लिए करती हूं उपवास, कुछ इसी तरह की भावनाओं संग खुशियों के पर्व पर सुहागिनें सोलह शृंगार किए बुधवार को नजर आई। साल भर के इंतजार बाद जब यह कठिन उपवास करने का दिन आया तो महिलाओं में भरपूर उत्साह देखने को मिला। राजधानी में अलग-अलग मंदिरों में इस अवसर पर दर्शन के लिए कतारें दिखी तों वहीं शाम ढलते ही निर्जला व्रत के संग महिलाओं ने भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना विधि विधान से की। दिन भर भजन कीर्तन और पारंपरिक कजरी संग बनारसी कजरी गीतों सुन महिलाएं प्रभु के रंग में रंगी नजर आईं जिसमें शिव जी डोल रहे पर्वत पर, रिमझिम रिमझिम बरसे पनिया मोरे श्याम न आए जैसे लोकगीतों से तीज उत्सव में चार चांद लग गए। रात में जगमगातें मंदिरों से रौनक से फैली छटा ने माहौल को त्योहार के रंग में रंग दिया। एक दिन संग पूरी रात उपवास कर सुहागिनें अपना उपवास गुरूवार को समपन्न करेंगी।

-40 फुट ऊंची पहाड़ी से मिले दर्शन

मां पार्वती ने भगवान शिव को प्राप्त करने के लिए निर्जल व्रत किया जिसके बाद उनकी तपस्या से खुश होकर उनसे विवाह कर लिया। इस मान्यता के अनुसार महिलाएं एक ओर व्रत रखती तो वहीं मंदिरों में शिव संग पार्वती जी की पूजा और भव्य झांकियां सजाई जाती हैं। चौपटियां के संदोहन देवी मंदिर और चौक कोनेश्वर मंदिर में भगवान शिव और मां पार्वती की झांकी का शृंगार जल, दालों और कुंतलो फूलों से किया गया। राजधानी में अलग-अलग जगह झांकियों का अनोखा रूप देखने को मिला। जिसमें शिव पार्वती जी का अद्भुत रूप मनामहोक अंदाज में प्रस्तुत किया गया। सुभाष मार्ग स्थित राम मन्दिर में बाबा भोले का शृंगार पुष्पों से कर 40 फुट ऊंची पहाड़ी में बाबा अमरनाथ की गुफा तैयार कर शिव तांडव की प्रस्तुति दी गई यहां बच्चों को कृत्रिम झरनों ने अपनी ओर खींचा। चौक के कोतवालेश्वर महादेव मन्दिर में बाबा अमरनाथ गुफा की मनोरम झांकी संग राजेन्द्र नगर के महाकाल मंदिर भोलेनाथ का आर्द्धनारीश्वर के स्वरुप के दर्शन भक्तों ने देर रात तक किए। वहीं निरालानगर, चौपटिया के बड़ा शिवाला और छोटा शिवाला, रकाबगंज के नागेश्वर मंदिरो में कुतलों फूलों से शृंगार हुआ वहीं देर रात तक श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।

-जीवित सापों से हुआ शृंगार, रात तक परिवार संग मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु

तीज के अवसर पर आयोजित मेले और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में देर रात तक परिवार संग भक्तों का तांता लगा रहा। श्री मंगलेश्वर महादेव मन्दिर समिति की ओर से कजरी तीज महोत्सव एवं मेले का आयोजन आगामीर ड्योढ़ी सुभाष मार्ग के श्री मंगलेश्वर महादेव मन्दिर पर किया गया। यहां की भव्य झांकी में इस बार रंगीन बर्फ व जीवित सर्पों के शृंगार को देख भक्त उत्साहित नजर आए। इसके साथ ही भगवान के विभिन्न अवतारों संग उनकी लीलाओं को झांकी के द्वारा दिखाया गया। रासलीलाओं, कान्हा के नटखट बाल अवतारश, मां दुर्गा संग मुख्य प्रसंगों को सांस्कृतिक कार्यक्रमों द्वारा प्रस्तुत किया गया।

-महाआरती संग मेहंदी से सजे हाथ

डालीगंज स्थित मनकामेश्वर-मठ में प्राचीन शिव मंदिर को पीले फूलों से सजाया गया। सुबह ब्रह्म आरती व संध्याकाल गणेश चतुर्थी की पूर्व संध्या के उपलक्ष्य में अलैकिक श्री लम्बोदर शृंगार के साथ महादेव जी की महाआरती की गई। मठ में महिलाओं ने शाम को विधिविधान से पूजा अर्चना की। इसके साथ ही मंदिर की महंत द्वारा मेहंदी प्रतियोगिता को आयोजित किया गया जिसमें उपमा पांडे, सुजाता, रीता, सुनीता दीक्षित,रश्मि रस्तोगी, मीना रस्तोगी, मीना रस्तोगी, गीता रस्तोगी संग महिलाओं ने हिस्सा लिया।

- पहली तीज पर दिखे खिले चेहरे

यह मेरी पहली तीज है जिसके लिए मैं बेहद उत्साहित हूं। मुझे त्यौहार में पूजा की विधि नहीं पता पर अपनी मम्मी से पूछ के इसबार कर रही हूं।

- दिव्या तिवारी, बंगला बाजार

नए कपड़ों संग नई ज्वैलरी का रहता है क्रेज। यह त्यौहार अपने संग खुशियों को लेकर आता है। उत्साह के साथ इस पर्व को परिवार संग मनाती हूं। व्रत पूरा होने के बाद गिफ्ट का इंतजार

- नेहा भट्ट, बिरहाना

झार में अपने परिवार संग पूजा अर्चना करती दिनभर के लंबे व्रत बाद अगले दिन खाना यह चुनौती से कम नहीं। पर पति के सब कुछ कर सकती हूं।

-पूजा शर्मा, तेलीबाग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:-