class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बच्चों को जूते मोज़े मुहैया कराने के मामले हाईकोर्ट सख्त

लखनऊ । विधि संवाददाताहाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने प्रदेश के प्राइमरी स्कूल के बच्चों को जूते व मोज़े मुहैया कराने के मामले को गंभीरता से लिया है अदालत ने कहा कि टेंडर देते समय विशेष सावधानी बरती जाए । अदालत ने सम्बंधित अधिकारियों से भविष्य के लिए कहा है कि प्राइमरी स्कूल के बच्चों के जूते मोजे की खरीददारी में गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाय । कहा कि बच्चों को उचित समय पर जूते व मोज़े मुहैया कराए जाए । यह आदेश मुख्य न्यायमूर्ति दिलीप बाबा साहेब भोसले व न्यायमूर्ति विवेक चौधरी की खंडपीठ ने याची रिज़वान अली की याचिका का निपटारा करते हुए दिया है । याचिका दायर कर आरोप लगाया गया था कि बच्चों के इस मामले में अधिकारियों ने लापरवाही कर टेंडर उन हाथो में दे दिया गया था जो उसके लायक नही थे । अदालत ने पाया कि इस शेसन में सप्लाई का काम लगभग पूरा हो रहा है लिहाजा याचिका औचित्यहीन हो गई है। अदालत ने याचिका का निपटारा करते हुए भविष्य के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए है । याचिका में मांग की गई थी कि बच्चों को जूते मोज़े सप्लाई का काम किसी जिम्मेदार फर्म को सौपा जाए। यह भी कहा गया कि उपरोक्त विषय में अत्यधिक सावधानी बरती जानी चाहिए । अदालत ने मामले का निपटारा करते हुए कहा है कि आदेश को ध्यान में रखते हुए आगे खरीद फरोख्त का काम किया जाय ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साव
शहरी दरों पर बिल वसूलने से नाराज किसानों ने किया प्रदर्शनआरटीओ ने किया कार्यालय का निरीक्षण