DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुन्नी वक्फ बोर्ड को सूफी में बदलने का समर्थन

 लखनऊ। कार्यालय संवाददाताबचाओ आंदोलन समिति ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को सूफी वक्फ बोर्ड में बदलने की चर्चा का समर्थन किया है। समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि केंद्र सरकार में इस मुद्दे पर चल रही सुगबुगाहट से उम्मीद है कि सरकार सुन्नी वक्फ बोर्ड को सूफी वक्फ बोर्ड में बदल कर ऐतिहासिक फैसला कर सकती है। मंगलवार को समिति पदाधिकारियों ने इस मुद्दे पर पत्रकारों को सम्बोधित किया। उन्नाव के सफीपुर स्थित खानकाहे बकाईया के नायब सज्जादानशीन शाह हसनैन बकाई ने कहा कि इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय में अगले सप्ताह सूफी उलमा की बैठक रखी गयी है। सुन्नी वक्फ बोर्ड में जितनी भी वक्फ सम्पत्तियां हैं उनमें 99 प्रतिशत वक्फ सूफियों के हैं। लोग अपनी सम्पत्ति इस विचार के साथ अल्लाह की राह में वक्फ करते हैं कि इन जगहों पर इबादत और धार्मिक मान्यताएं पूरी होने से सवाब मिलेगा। उन्होंने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को संचालित करने वाले अधिकांश लोग इस तरह के सवाब की विचारधारा को नहीं मानते हैं। यही वजह है कि प्रदेश में सुन्नी वक्फ सम्पत्तियां बहुत तेजी के साथ तबाह और बर्बाद हो रही हैं। समिति के अध्यक्ष शमील शम्सी ने कहा कि सूफियों की वक्फ सम्पत्तियों की बर्बादी पर अंकुश लगना चाहिए। सरकार अगर सुन्नी वक्फ बोर्ड को सूफी वक्फ बोर्ड में तब्दील कर दे तो यह ऐतिहासिक फैसला होगा। उन्होंने आशा जताई कि इस मामले पर जल्द ही सरकार की पहल सामने आ सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुस्लिम