ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश ललितपुरधौर्रीसागर, लखंजर पापड़ा के जंगलों में टाइगर की मौजूदगी

धौर्रीसागर, लखंजर पापड़ा के जंगलों में टाइगर की मौजूदगी

फोटो- 4, 5कैप्सन- धौर्रीसागर के ट्रैप कैमरे में कैद टाइगर, जंगल में घूमता भालूधौर्रीसागर, लखंजर पापड़ा के जंगलों में टाइगर की मौजूदगीट्रैप कैमरों में...

धौर्रीसागर, लखंजर पापड़ा के
जंगलों में टाइगर की मौजूदगी
default image
हिन्दुस्तान टीम,ललितपुरMon, 24 Jun 2024 06:55 PM
ऐप पर पढ़ें

फोटो- 4, 5

कैप्सन- धौर्रीसागर के ट्रैप कैमरे में कैद टाइगर, जंगल में घूमता भालू

धौर्रीसागर, लखंजर पापड़ा के

जंगलों में टाइगर की मौजूदगी

ट्रैप कैमरों में टाइगर के साथ कैद हुआ भालू

अलर्ट हुए वन विभाग के आला अधिकारीगण

ललितपुर। जनपद के जंगलों में सिर्फ तेंदुआ और भालू ही नहीं, टाइगर भी मौजूद है। बीते दिनों वन विभाग के ट्रैप कैमरों में मड़ावरा स्थित धौर्रीसागर व लखंजर पापड़ा के घने जंगलों में अलग-अलग टाइगर नजर आए हैं। यहां भालू भी दिखाई दिया है। इससे उत्साहित वन विभाग अफसरों ने आला अधिकारियों को इसकी सूचना दी।

जनपद के जंगलों में जंगली जानवरों की मौजूदी को चिह्नित करने के लिए प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी गौतम सिंह की देखरेख में 10 दिन पहले मड़ावरा रेंज में 14, गौंना रेंज में 04 और ललितपुर रेंज में 02 ट्रैप कैमरे लगाए गए थे। बीते दो दिनों से वन विभाग अफसरों की टीम इन ट्रैप कैमरों की फुटेज को चेक कर रही है। प्रभागीय निदेशक के साथ वनकर्मी सोमवार को मड़ावरा रेंज गए। यहां ट्रैप कैमरे चेक किए गए। धौर्री सागर के घने जंगल में लगे कैमरे की फुटेज में टाइगर और भालू दिखाई दिए। टाइगर के फोटो देखकर अफसरों के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गयी। इसके बाद पूरी टीम ने लखंजर पापड़ा के घने जंगल में लगे कैमरों की फुटेज को जांचा तो यहां भी एक टाइगर (बाघ) की मौजूदगी मिली। लखंजर पापड़ा व धौर्रीसागर के बीच चार किलोमीटर के अंतर पर दो अलग-अलग याफिर एक ही टाइगर के होने की जांच में अफसर जुट गए। उन्होंने जनपद के जंगल में टाइगर की मौजूदगी के संबंध में विभागीय आला अफसरों व प्रशासनिक अधिकारियों को जानकारी दी। टाइगर की मौजूदगी के बाद आवश्यक कार्रवाई में अधिकारी जुटे रहे।

बाक्स

मध्य प्रदेश के अफसरों से साधा संपर्क

ललितपुर। जनपद के जंगल मध्य प्रदेश से जंगली क्षेत्रों में लगे हुए हैं। इसी कारण धौर्रीसागर व लखंजर पापड़ा के जंगलों में टाइगर दिखने के बाद प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी गौतम सिंह ने मध्य प्रदेश के वन विभाग के अफसरों से सम्पर्क साधा और जानकारी मांगी कि कहीं यह टाइगर उनके जंगल से घूमता हुआ यहां तो नहीं आ गया। फिलहाल मध्य प्रदेश के अफसरों का कोई जवाब नहीं मिला है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।