ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश ललितपुरसीएम ने दी अनुमति, टीकमगढ़ को जमड़ार से छोड़ा 01 एमसीएम पानी

सीएम ने दी अनुमति, टीकमगढ़ को जमड़ार से छोड़ा 01 एमसीएम पानी

ललितपुर। मध्य प्रदेश स्थित टीकमगढ़ जनपद में गहराए पेयजल संकट को दूर करने के...

सीएम ने दी अनुमति, टीकमगढ़ को
जमड़ार से छोड़ा 01 एमसीएम पानी
हिन्दुस्तान टीम,ललितपुरThu, 13 Jun 2024 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

ललितपुर। मध्य प्रदेश स्थित टीकमगढ़ जनपद में गहराए पेयजल संकट को दूर करने के लिए बीती देर रात्रि जमड़ार बांध के गेट खोलकर एक एमसीएम पानी नदी में छोड़ा गया। मुख्यमंत्री योगी आदत्यिनाथ की अनुमति के पश्चात बीती देर रात्रि अधिशासी अभियंता भागीरथ विभागीय कर्मियों संग बांध पर डटे रहे।

बुंदेलखंड व आस पास जनपद की पहाड़ी नदियां यहां रहने वाले लोगों के लिए जीवन की तरह हैं। ललितपुर जनपद में बहने वाली जामनी नदी मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ तक गयी है। टीकमगढ़ में जामनी नदी के बरी घाट पर एक स्टाफ डैम बना हुआ है। इसमें भंडारित होने वाले पानी का पेयजल और सिंचाई में इस्तेमाल किया जाता है। इसी स्टाफ डैम से टीकमगढ़ का जल संस्थान पेयजल आपूर्ति के लिए कच्चा पानी लेता है। इस बार भीषण गर्मी के चलते स्टाप डैम में पानी की जबरदस्त कमी हो गयी और जलापूर्ति प्रभावित होने से टीकमगढ़ में बूंद-बूंद पानी के लिए हाहाकार मचने लगा। जलापूर्ति सुचारू बनाने के लिए टीकमगढ़ के जिलाधिकारी ने ललितपुर के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर जमड़ार नदी से 01 एमसीएम पानी अविलंब उपलब्ध कराने का आग्रह किया था। इस क्रम में जिलाधिकारी अक्षय त्रिपाठी ने अधिशासी अभियंता सिंचाई नर्मिाण खंड प्रथम भागीरथ बरुआ को पत्र लिखकर जमड़ार बांध में पानी की उपलब्धता के मुताबिक आवश्यक कार्रवाई के नर्दिेश दिए थे। अधिशासी अभियंता सिंचाई नर्मिाण खण्ड प्रथम ने बांध में 01.72 एमसीएम पानी उपलब्धता की रिपोर्ट बनाकर अधीक्षण अभियंता के माध्यम से नर्णिय के लिए शासन भेज दी थी। जमड़ार बांध के गेट खोलकर पानी भेजने का प्रावधान नहीं होने पर मामला मुख्यमंत्री योगी आदत्यिनाथ के समक्ष पहुंच गया। बीती देर शाम मुख्यमंत्री ने बांध के गेट खोलकर 01 एमसीएम पानी मध्य प्रदेश के टीकगमढ़ को देने के नर्दिेश दिए। इसके बाद जारी दिशा नर्दिेशों को ध्यान में रखकर अधिशासी अभियंता विभागीय अफसरों व कर्मचारियों के साथ जमड़ार बांध गए और अपने सामने गेट खुलवाकर नदी में पानी डस्चिार्ज किया। इस संबंध में टीकमगढ़ जनपद के अफसरों को जानकारी भी दे दी गयी थी।

अफसरों को नहीं दिए गए अधिकार

ललितपुर। मानसून को छोड़ जमड़ार बांध के गेट खोलकर पानी डस्चिार्ज करने के अधिकार सिंचाई विभाग अधिकारियों को नहीं दिए गए हैं। इसलिए टीकमगढ़ को 01 एमसीएम पानी देने का नर्णिय लेने से अधिशासी अभियंता, अधीक्षण अभियंता सहित सभी अधिकारी बच रहे थे। जिस कारण मामला मुख्यमंत्री के समक्ष पहुंच गया था। मुख्यमंत्री का आदेश मिलते ही तत्काल गेट खोलकर पानी छोड़ा गया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
Advertisement