DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंक कर्मियों की हड़ताल का व्यापक असर, करोड़ों रुपये का लेनदेन ठप

बैंक कर्मियों की हड़ताल का व्यापक असर, करोड़ों रुपये का लेनदेन ठप

ललितपुर। विभिन्न मांगों को लेकर यूएफबीयू के आह्वान पर बैंक अधिकारियों, कर्मचारियों की हड़ताल के 48 घंटे बुधवार से प्रांरभ हो गए। पहले ही दिन आंदोलन का बड़ा असर दिखायी दिया। करोड़ों रुपये का लेनदेन ठप हो गया और कारोबारियों सहित आम लोगों को समस्या का सामना करना पड़ा। आंदोलन में शामिल लोगों ने जबरदस्त नारेबाजी करके अपना हक मांगा।वेतन बढ़ोत्तरी सहित विभिन्न समस्याओं को लेकर बैंक अधिकारी व कर्मचारी लंबे समय से आंदोलन की चेतावनी देते चले आ रहे हैं। समझौते के तमाम प्रयास असफल होने के बाद बुधवार को बैंक अफसर व कर्मी हड़ताल पर चले गए। जिसकी वजह से पंजाब नेशनल बैंक. भारतीय स्टेट बैंक, बैंक आफ बड़ौदा, विजया बैंक, सेंट्रल बैंक सहित राष्ट्रीयकृत बैंकों की विभिन्न शाखाएं बंद रहीं। करोड़ों रुपये का लेनदेन ठप हो गया। हड़ताल की जानकारी न होने पर बैंक पहुंचे लोगों के हाथ निराशा लगी। उधर, तुवन मंदिर चौराहा स्थित पंजाब नेशनल बैंक शाखा पर एकत्रित आंदोलनकारियों ने बताया कि वेतन पुनरीक्षण को लेकर मांग पत्र हल करने में आईबीए का विलंब स्वीकार नहीं है। इसमें सरकार भी उदासीन बनी हुई है। वेतन वृद्घि के लिए बिल में दो प्रतिशत की बढ़ोत्तरी उनका अपमान है। उन्होंने कहा कि त्वरति एवं शीघ्र वेतन पुनरीक्षण समझौता की आवश्यकता है। वेतन में पर्याप्त वृद्घि व सेवाशर्तों में सुधार बिना अब काम नहीं चलेगा। स्केल आठ तक अधिकारियों के लिए वेतन पुनरीक्षण समझौता होना चाहिए। उन्होंने केंद्र सरकार व जिम्मेदारों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस मौके पर के एन कौशिक, नरेंद्र कुमार, विजय विश्वकर्मा, गौरव शर्मा, संजय शुक्ला, अविनाश कुमार, सुरेश साहू, बृजेंद्र सिंह, सोनू कुशवाहा, दीपक लक्षकार, अखिलेश कुमार नरवरिया, भगवानदास साहू, सच्चिदानंद, हीरा, विक्रम सिंह, बंटी, सुरेश कुमार साहू, अमित कुमार श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Broad effect of strike of bank workers, transaction jam of crores rupees