ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखीमपुरखीरीसत्ता में जो भी आए, किसान का काम हो: टिकैत

सत्ता में जो भी आए, किसान का काम हो: टिकैत

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत ने कहाकि चुनाव बाद सत्ता में जो भी आए, वह किसानों का काम करे। आज राजनीतिक दल किसानों का नाम ले...

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत ने कहाकि चुनाव बाद सत्ता में जो भी आए, वह किसानों का काम करे। आज राजनीतिक दल किसानों का नाम ले...
1/ 2भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत ने कहाकि चुनाव बाद सत्ता में जो भी आए, वह किसानों का काम करे। आज राजनीतिक दल किसानों का नाम ले...
भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत ने कहाकि चुनाव बाद सत्ता में जो भी आए, वह किसानों का काम करे। आज राजनीतिक दल किसानों का नाम ले...
2/ 2भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत ने कहाकि चुनाव बाद सत्ता में जो भी आए, वह किसानों का काम करे। आज राजनीतिक दल किसानों का नाम ले...
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीSun, 23 Jan 2022 03:30 AM

तिकुनियां/अलीगंज-खीरी।

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत ने कहाकि चुनाव बाद सत्ता में जो भी आए, वह किसानों का काम करे। आज राजनीतिक दल किसानों का नाम ले रहे हैं, यह एक शुरुआत है। टिकैत ने कहा कि किसानों के लिए संघर्ष जारी रहेगा।

टिकैत शनिवार को गोला के अलीगंज व तिकुनिया के कौड़ियाला घाट गुरुद्वारे में मत्था टेकने पहुंचे थे। कौड़ियाला गुरुद्वारा में तिकुनियां मारे गए में मारे गए किसान गुरविंदर सिंह व दलजीत सिंह के परिजन सुखविंदर सिंह, गुरमीत सिंह और मंजीत सिंह से मुलाकात की। इससे पहले गोला के अलीगंज क्षेत्र में किसानों से मुलाकात कर हाल जाना। तिकुनिया कांड में जेल में बंद विचित्र सिंह व गुरविंदर सिंह के परिजनों से भी मुलाकात की। टिकैत बोले-वह इसलिए आए हैं कि मारे गए किसानों के परिवारों से मिलकर उनकी तकलीफों को समझ सकें। यह मामला देश की सबसे बड़ी अदालत में चल रहा है। हमें पीड़ित परिवारों की देखरेख करनी है। मीटिंग हाल में किसानों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के प्रति गंभीर नहीं है, इसलिए डटकर मुकाबला करना होगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में सक्रिय कमेटी बनाई जाएगी, जो तिकुनिया कांड के मुकदमे पर पर नजर रखेगी। बोले-किसानों की जमीनें सस्ते मूल्य पर नीलाम हो रही हैं। तीन साल से गन्ने की फसल बर्बाद हो रही है। किसान पर कर्ज बढ़ जाता है और जमीन नीलाम होने की नौबत आ जाती है। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि राजस्थान में एक किसान की दस एकड़ जमीन 7 लाख रुपए में नीलम की जा रही थी जिसे पहुंच कर रुकवाया गया। कहा कि चुनाव बाद एमएसपी पर कमेटी बनाई जाएगी, इसके लिए दिल्ली सरकार से बात चल रही है।

अलीगंज में टिकैत ने कहा है कि सभी किसान अपनी खेती किसानी पर ध्यान दें। चुनाव तो आते-जाते रहते हैं। अलीगंज क्षेत्र में पहुंचे टिकैत ने पचतौर, हड़ेला गुरुद्वारों में मत्था टेका। इस दौरान यूपी और उत्तराखंड के भाकियू प्रभारी बलजिंदर सिंह मान, जिलाध्यक्ष दिलबाग सिंह, अजीत सिंह, तराई क्षेत्र अध्यक्ष उत्तराखंड कुलवंत सिंह,पवन बटाला महासचिव,अर्जुन सिंह आदि रहे।

epaper