DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखीमपुरखीरी  ›  धान खरीद न होने पर धरने पर बैठे किसान, हंगामा
लखीमपुरखीरी

धान खरीद न होने पर धरने पर बैठे किसान, हंगामा

हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीPublished By: Newswrap
Wed, 21 Oct 2020 03:10 AM
किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में...
1 / 3किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में...
किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में...
2 / 3किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में...
किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में...
3 / 3किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में...

मैगलगंज खीरी।

किसानों के धान खरीद व गन्ना भुगतान की समस्याओं के प्रति प्रशासन की अनदेखी के चलते भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मैगलगंज मंडी समिति में सैकड़ों किसानों ने धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया है। जिला प्रशासन की नीतियों से नाराज किसानों ने धान से भरी ट्रालियां मंडी में खड़ी कर दीं। हालांकि जिला प्रशासन ने किसानों द्वारा लगातार किए जा रहे प्रदर्शन का संज्ञान लेते हुए मैगलगंज मंडी में तीन क्रय केंद्रों का आवंटन कर दिया है। लेकिन किसानों ने तौल शुरू होने के बाद ही धरना समाप्त किये जाने का एलान किया है।

भारतीय किसान मजदूर संगठन के बैनर तले धान खरीद न शुरू होने से नाराज क्षेत्र के सैकड़ों किसानों ने सोमवार को मैगलगंज मंडी परिसर में धरना प्रदर्शन शुरू किया था। जिलाध्यक्ष पटेल श्रीकृष्ण वर्मा की अगुवाई में धरना कर रहे किसानों ने जिला प्रशासन पर आरोप लगाते हुए मांग की थी कि राज्य सरकार एक अक्तूबर से सरकारी धान क्रय केंद्रों पर किसानों के धान की खरीद शुरू किये जाने के दावे कर रही है लेकिन खीरी जिले की मितौली तहसील क्षेत्र में किसी भी केंद्र पर धान खरीद अब तक शुरू नहीं हो पाई। मजबूर किसान औने-पौने दामों में अपनी मेहनत की फसल बिचौलियों के हाथों बेंचने पर विवश है। कई किसानों ने धान से भरी ट्रालियों को मंडी गेट पर खड़ा करते हुए ऐलान किया कि जब तक उनके धान की खरीद नहीं होगी, वह ट्रालियां नहीं हटाएंगे। इसके अलावा धरने पर बैठे किसानों ने चीनी मिलों पर बकाया गन्ना भुगतान व सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार खेतों में फसल अवशेष न जलाने के एवज में पांच हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से किसानों को भुगतान की मांग रखी। किसानों के प्रदर्शन की सूचना पर देर शाम तहसीलदार मितौली धरना स्थल पर पहुंचे, जहां उन्होंने एडीएम से संगठन जिलाध्यक्ष पटेल श्रीकृष्ण वर्मा की मोबाइल पर वार्ता कराकर आश्वासन दिया कि मंगलवार को क्रय केंद्र पर धान खरीद शुरू हो जाएगी, आप लोग धरना समाप्त कर दीजिए। लेकिन किसान नेताओं ने प्रशासन से दो टूक कहते हुए चेतावनी दी कि जब तक मैगलगंज मंडी में धान की तौल शुरू नहीं हो जाती वह नहीं हटेंगे और उनकी सुनवाई न होने पर 10 दिन बाद अजबापुर शुगर मिल गेट पर धरना प्रदर्शन शुरू कर देंगे। इस दौरान मुख्य अतिथि के रूप में उत्तर पूर्वी प्रदेश अध्यक्ष प्रताप बहादुर, महासचिव मो. इसरात गाजी, मंडल अध्यक्ष शकील अहमद, जिला प्रभारी गुरुपेज सिंह सिद्धू समेत सैकड़ों किसान मौजूद रहे।

मंडी में तीन सेंटर खोलने की संस्तुति

मैगलगंज मंडी परिसर में धान खरीद न शुरू होने से नाराज किसानों ने विभिन्न किसान संगठनों के बैनर तले कई बार धरना-प्रदर्शन कर जिला प्रशासन के प्रति नाराजगी जाहिर की। हालांकि जिला प्रशासन द्वारा मैगलगंज मंडी में शुरुआत से ही क्रय संस्था पीसीएफ की सीएमएस मैगलगंज को धान खरीद के लिए आवंटित किया था लेकिन इस सेन्टर पर अभी तक खरीद शुरू नहीं की गई थी। लगातार हो रहे प्रदर्शनों का संज्ञान लेते हुए डीएम ने सोमवार देर शाम मितौली के दो खरीद केंद्रों का स्थान परिवर्तित करते हुए मैगलगंज मंडी कर दिया ताकि मैगलगंज क्षेत्र के किसानों को असुविधा न हो। स्थान परिवर्तित किये गए केंद्रों के नाम एफएसएस मितौली व एनसीसीएफ हिन्दूनगर हैं। अब कुल तीन क्रय केंद्रों द्वारा मैगलगंज मंडी में धान खरीद शुरू होने के आसार दिखाई रहे हैं।

संबंधित खबरें