DA Image
21 अक्तूबर, 2020|1:33|IST

अगली स्टोरी

बाढ़ से पहले लिया बार्डर के आखिरी गांव का जायजा

बाढ़ से पहले लिया बार्डर के आखिरी गांव का जायजा

भारत-नेपाल बॉर्डर पर मोहाना नदी पार बसे देश के आखिरी गांव चौगुर्जी के लोगों का हालचाल लेने तहसील से लेखपालों की टीम पहुंची। इस टीम ने वहां हर साल बाढ़ से जूझने वाले लोगों के परिवारों का ब्यौरा लेने के साथ ही बाढ़ के दौरान सावधानियों तथा मदद के लिए जानकारियां दीं।

तहसीलदार डॉ. धर्मेंद्र पांडे के निर्देश पर तहसील से लेखपाल कोमल सिंह व सोनू मौर्य ग्राम प्रधान प्रगट सिंह डंपी के साथ चौगुर्जी पहुंचे। लेखपालों ने गांव के सभी परिवारों के महिला, पुरुष व बच्चों की संख्या की जानकारी ली। साथ ही ग्रामीणों को बाढ़ से पहले बरतने योग्य सावधानियों की जानकारी दी। पिछली बार इसी तरह गई लेखपालों की टीम नदी में फंस गई थी और उनको पूरी रात नदी में काटनी पड़ी थी। एनडीआरएफ टीम ने उनको रेस्क्यू किया था। इस बार नाव से गांव जाने वाली यह टीम अपने साथ लाइफ जैकेट व रिंग आदि लेकर गई थी। मोहाना व कर्णाली नदियों के बीच फंसा सूरतनगर का चौगुर्जी गांव हर वर्ष इन नदियों का भीषण कहर झेलता है। गांव जाने के लिए साल भर नाव ही इकलौता जरिया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Took stock of the last village of the border before the flood