DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › लखीमपुरखीरी › लगने से पहले उजड़ गई प्रदर्शनी, मायूस लौटे व्यापारी
लखीमपुरखीरी

लगने से पहले उजड़ गई प्रदर्शनी, मायूस लौटे व्यापारी

हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 03:50 AM
लगने से पहले उजड़ गई प्रदर्शनी, मायूस लौटे व्यापारी

गोला गोकर्णनाथ खीरी।

शहर में बच्चों के मनोरंजन के लिए लग रही प्रदर्शनी मंगलवार को प्रशासन ने उजाड़ दी। बताया जाता है कि पहले इसके लिए मंजूरी दी गई थी। बाद में एक बड़े नेता के दखल के बाद पुलिस ने हटवा दिया। दूर दराज से आए दुकानदार लाखों का घाटा उठाकर वापस लौट रहे हैं।

कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम हुई तो सरकार ने गाइडलाइन में कुछ छूट दी तो बाहर के व्यापारियों ने बच्चों के मनोरंजन के लिए गोला के एक मैदान में राष्ट्रीय कौमी एकता मेला और प्रदर्शनी लगानी चाही। इसके लिए दुकानदारों ने गोला में पब्लिक इंटर कॉलेज प्रबंध समिति से उनके मैदान में दुकानें लगाने के लिए लिखित अनुमति प्राप्त कर ली। एसडीएम से भी मेला, प्रदर्शनी के लिए अनुमति की मांग की। एसडीएम ने सकारात्मक रुख अपनाया और पुलिस से रिपोर्ट मांगी। मजेदार बात यह है कि नानक चौकी प्रभारी अजय कुमार मिश्रा ने प्रदर्शनी के पक्ष में रिपोर्ट लगा दी। लिखा कि आवेदक को कोविड प्रोटोकॉल के नियमों के अनुरूप सशर्त संस्तुति प्रस्तुत की जाती है। उसके बाद सत्ता पक्ष के ही दो नेताओं के अहम टकरा गए। यहीं से मामला बिगड़ गया। सत्ता पक्ष के नेता का इशारा हुआ तो प्रशासन ने भी प्रदर्शनी की अनुमति देने से हाथ खड़े कर दिए कहा इससे तो कोविड-19 का उल्लंघन होगा।

निराश हो गए शहर के बच्चे-

कोरोना संक्रमण के बीच स्कूल कॉलेज बंद है। कोई आयोजन नहीं हो रहा था चैती मेला भी नहीं हुआ। सावन का मेला भी नहीं हुआ। बच्चे खेल तमाशे के लिए तरस गए। जब गोला में मेला और प्रदर्शनी के लिए दुकानें आई झूले आए तो बच्चों के चेहरे पर चमक आ गई। कहा कि उनका थोड़ा मनोरंजन हो जाएगा, पर नेताओं के आपसी टकराव के कारण उनकी खुशी छिन गई।

प्रदेश में कई जगह लगी है प्रदर्शनी और मेला

सीतापुर निवासी सोनी भाई पुत्र वेद प्रकाश सोनी का कहना है कि प्रदेश के पूरनपुर और लखनऊ में मेला और प्रदर्शनी चल रही है। इसके लिए भी अनुमति ली गई थी जो मिल चुकी है उसके बाद उसके कागज भी मौजूद है फिर भी गोला में न जाने क्यों उसके साथ नाइंसाफी की जा रही है। कोरोना का संक्रमण कम हुआ तो प्रदेश सरकार ने स्कूल कॉलेज भी खोल दिए कहा कि कोविड गाइड लाइन का पालन किया जाए किसी भी स्कूल में कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन न हो।

पैसा खर्च कर भी उजड़ गए दुकानदार

-शहर में कौमी एकता को लेकर प्रदर्शनी लगनी थी। कॉलेज प्रबंध समिति की अनुमति मिलने के बाद दुकानें सजा दी गई उसके बाद आयोजक ने कई ट्राली मिट्टी डलवाई साफ सफाई कराकर लाखों रुपया खर्च किया। जब सब कुछ तैयार हो गया तब उस पर रोक लगा दी गई। उनका कहना है कि एतराज था तो पहले ही बता देना था।

कोविड गाइडलाइन के तहत मेला और प्रदर्शनी की अनुमति नहीं दी जा सकती। इसलिए इस पर रोक लगाई गई है।

अखिलेश यादव, एसडीएम गोला

मुझे सूचना मिली थी कि पीआईसी के परिसर में प्रदर्शनी और मेला लग रहा है। वह ना तो उसके पक्ष में है और ना उसके विपक्ष में है।

अरविंद गिरि, विधायक

कालेज के जूनियर विभाग के प्रांगण में बच्चों के लिए झूले व खेल खिलौने के स्टाल लगाने की अनुमति दी गई है। यह प्रदर्शनी 25 अगस्त से 25 सितंबर तक चलनी थी। कुछ लोग इसमें बाधा पहुंचा रहे हैं।

विजय माहेश्वरी, जिला उपाध्यक्ष भाजपा

संबंधित खबरें