DA Image
28 फरवरी, 2021|9:12|IST

अगली स्टोरी

प्राक्लन समिति ने पूछा जिले में कितने हैं सरकारी जर्जर भवन

प्राक्लन समिति ने पूछा जिले में कितने हैं सरकारी जर्जर भवन

लखीमपुर-खीरी।

उत्तर प्रदेश विधानसभा की प्राक्कलन समिति के सभापति ज्ञानेंद्र सिंह के नेतृत्व में टीम बुधवार की दोपहर बाद जिले में पहुंची। कलक्ट्रेट सभागार में बैठक कर सरकार की योजनाओं के बारे में समीक्षा की। इस टीम में विधायक राकेश प्रताप सिंह, सुरेश्वर सिंह, साकेंद्र प्रताप वर्मा व माधवेंद्र सिंह शामिल रहे।

बैठक में समिति ने जिले में कोविड-19 को लेकर जिले में वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी ली। आयुष्मान भारत के तहत गोल्डन कार्डों का वितरण प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना सहित सीएचसी की क्षमता आदि के बारे में सीएमओ ने बताया। सभापति ने जिले में जर्जर सरकारी भवनों के बारे में जानकारी ली। डीएम ने बताया कि परिषदीय व जूनियर हाईस्कूल विद्यालयों के जर्जर भवनों का सर्वे करा लिया गया है और उन्हें गिराने की कार्रवाई चल रही है। एडीएम अरुण कुमार सिंह से पूछा कि राजस्व विभाग के कितने नक्शे फीड हो चुके हैं और कितने नक्शे क्षतिग्रस्त हैं। वही ग्राम सचिवालय व सामुदायिक शौचालयों की निर्माण व उनके लोकार्पण के बारे में पूछा। उपायुक्त अजय प्रताप सिंह ने बताया कि 377 स्वयं सहायता समूह सामुदायिक शौचालय की जिम्मेदारी संभाल रहे है। वहीं 21 स्वयं सहायता समूहों द्वारा उचित दर विक्रेता के रूप में अपनी सेवाएं दी जा रही है। सभापति ने नगर निकाय से से 14 व 15 में वित्त के संबंध में जानकारी ली। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, निराश्रित व विधवा पेंशन राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय के निरीक्षण, आसरा योजना सहित विभिन्न योजनाओं की बिंदुवार समीक्षा की। डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने जिले के विकास कार्यों के बारे में जानकारी दी। इस दौरान एसपी विजय ढुल, सीडीओ अरविंद सिंह, डीएफओ दक्षिणी समीर कुमार, एडीएम अरुण कुमार सिंह, एएसपी अरुण कुमार सिंह, पीडी रामकृपाल चौधरी, डीडीओ अरविंद कुमार, डीएसटीओ राजेश सिंह आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The estimates committee asked how many government dilapidated buildings are there in the district