DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखीमपुरखीरी  ›  हादसों का फरमान बन रहा अधूरा एनएच 730 ए

लखीमपुरखीरीहादसों का फरमान बन रहा अधूरा एनएच 730 ए

हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:31 AM
हादसों का फरमान बन रहा अधूरा एनएच 730 ए

मोहम्मदी-खीरी।

जिस एनएच 730 ए के निर्माण को जिले का अहम प्रोजेक्ट माना जा रहा है। उसकी रफ्तार भी बेहद धीमी है। हालत यह है कि यह हाईवे कई जगहों पर हादसों का दावत दे रहा है। कहीं सड़क ऊंची कर दी गई है तो कहीं पुलिया छोड़ दी गई। कुछ जगहों पर रूट डायवर्जन इतना खतरनाक बनाया गया है कि कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। इस हाईवे के पूरे होने की आस इलाके के लोग देख रहे हैं।

मोहम्मदी-शाहजहांपुर राजमार्ग एनएच 730 ए पर कार्रदाई संस्था के धीमे काम होने से लोगों में रोष है। इससे नगर के अंदर कई बड़े सड़क हादसों में लोगों की जाने चली गई। जिसको लेकर कई लोगों ने आरटीआई से जवाब तक मांग लिया। फिर भी कोरोना का बहाना बना कर टाल रहे हैं। जिला मुख्यालय जोड़ने की सड़कों का चौड़ीकरण कार्य दो वर्ष से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी कार्य धीमी गति से होने के चलते सड़क पर कई जगह बड़े-बड़े गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। सड़क खोदकर डाल देने से नगर के भीतर कई हादसे हो गये।, जिसमें लोगों की जानें चली गई। फिर भी जिम्मेदार बेपरवाह हैं। सड़क निर्माण कार्य संस्था ऐप्को का विश्व बैंक ने पैसा मार्च में निर्गत कर दिया था। जिसके बाद भी कार्य नहीं हो पा रहा है।

----------

रेहरिया जंगल के पास सड़क खतरनाक

-रेहरिया जंगल से होकर गुजर रहा ये हाईवे अब खतरनाक हो चला है। जंगल के अंदर कुछ जगह सड़क बेहद ऊंची कर दी गई है तो कुछ जगह ढलान पर है। इससे तेज गति से आ रहा वाहन हादसे का शिकार हो सकता है। यही हाल गोमती पुल से पहले का है। हाईवे की वजह से यहां ट्रक पलट चुके हैं। जिससे कई जानें चली गई थीं।

कस्बे के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. सुरेन्द्र सिंह का कहना है कि सड़क निर्माण कार्य धीमी गति से होने पर नगर में जगह-जगह गड्ढों में तब्दील हो गई। निर्माण कार्य जल्दी पूरा कराने की मांग की है।

साबिर मंसूरी का कहना है कि दुकानदारी ठप्प हो गई। दुकानों के सामने बड़े-बड़े गड्ढे होने से यातायात वर्षों से ठप हो चुका है। निर्माण कार्य में लगे कर्मचारी मनमाने ढंग से कार्य कर रहे हैं, जो चिंता का विषय है।

लव गुप्ता का कहना है कि सड़क कार्य संस्था द्वारा कार्य न करने पर आरटीआई डाल कर उत्तर मांगा। जिस पर पता चला संस्था पैसा रिलीज कर दिया गया है। जिसके बाद भी कार्य नहीं हो पाने में लोगों में रोष है। जिससे कई लोगों की जाने चली गई।

संबंधित खबरें