DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटी को जिंदा करने के लिए रात भर किया तंत्र-मंत्र

बेटी को जिंदा करने के लिए रात भर किया तंत्र-मंत्र

मर चुकी बेटी के जिंदा होने की आस में परिवार ने 35 घंटे इंतजार किया। तंत्र-मंत्र और पूजा-पाठ जारी रही। तांत्रिकों का सहारा लेकर शव को घर में रखकर पूरी रात पूजा पाठ करवाई गई। बाद में तांत्रिक भी मौके से रफूचक्कर हो गए। तब लगभग 35 घंटे बाद पिता ने सोनम के जीवित होने की आस छोड़कर उसका बुधवार की सुबह अंतिम संस्कार कर दिया।

तमोलीपुर गांव में बीते कई दिनों से गले मे संक्रमण होने के चलते सोनम पुत्री बद्री प्रसाद की मौत हो गई थी। इसकी सूचना गांव के साथ साथ रिश्तेदारों को दी गई। दोपहर तक सभी के इकट्ठा होने पर जब सोनम के अन्तिमसंस्कार की तैयारी होने के बाद जैसे ही उसको स्नान करवाया गया, वैसे ही उसका शरीर ढीला पड़ गया। इससे पिता बद्री प्रसाद व उनके रिश्तेदार राजाराम ने सोनम के जीवित होने की आस लगाकर उसका अन्तिम संस्कार रोक दिया। शव को घर के अंदर रख दिया गया। ग्रामीणों ने सीएचसी खमरिया प्रभारी डॉ. वीके स्नेही को बुलाकर जांच करवाई, जिन्होंने उसे मृत घोषित कर दिया। जैसे ही डॉक्टरों की टीम बद्री प्रसाद के घर से निकली वैसे ही उसके घर पर मौजूद रिश्तेदार राजाराम ने तांत्रिकों को आमंत्रण देकर तंत्र-मंत्र चालू करा दिया। देर शाम घर पहुचे तांत्रिकों ने देर रात तक अपनी तंत्रविद्या के सहारे सोनम को जीवित करने की डींगें मारते रहे पर जब कोई उपाय नहीं लगा तो इधर-उधर की बातें बताकर रफ़ूचक्कर हो गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Tantra-Mantra overnight to make the daughter alive