अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शारदा के निशाने पर कई आशियाने, स्कूल के पास कटान तेज

शारदा के निशाने पर कई आशियाने, स्कूल के पास कटान तेज

घाघरा व शरदा नदियों में जलस्तर कम होते ही कटान तेज हो गया है। दोनों नदियों के निशाने पर कई गांव आ गए हैं। लोगों की जमीनों को निगलती हुई नदियां आगे बढ़ गई हैं। भूमिहीन बन रहे लोगों के आशियानों पर भी संकट बढ़ गया है। नदी की जद में आए घरों का सामान निकालकर लोग सुरक्षित स्थानों को पहुंचा रहे हैं। कटान रोकने के लिए कोई काम न होने से लोगों में आक्रोश बढ़ रहा है। समदहा स्कूल नदी के निशाने पर आ गया है। वहीं भानपुर इलाके का प्राथमिक स्कूल चमरौधा नदी में समा चुका है। रमियाबेहड़ इलाके में गुलरिया, बगहा, गोडि़याना में घाघरा नदी तेज से कटान कर रही है। वहीं शारदा नदी पसियन पुरवा, चिकनाजती, समदहा, चहमलपुर सहित कई गांवों में कटान कर रही है। समदहा गांव में शारदा नदी प्राथमिक विद्यालय के पास पहुच गयी है।

रमियाबेहड इलाके में घाघरा बगहा, गुलरिया गांव के बिल्कुल करीब पहुंच गयी है। वहीं चिकना, रैनी, समदहा गांव के दर्जनो किसानो की सैकड़ों एकड़ फसल सहित जमीन काटने के बाद गांवो के करीब पहुंच गयी है। चिकना गांव में शारदा नदी ने राधेश्याम, रामसागर, इन्द्र बहादुर, सुखराम सहित दर्जनों किसानों की फसलों सहित जमीन को काटकर गांव के ही राजेन्द्र छोटू के घर के पड़ोस पहुंच गयी है। समदहा गांव के प्राथमिक विद्यालय के पास नदी पहुंच गयी है। स्कूल कभी भी कट सकता है। ग्राम प्रधान जय भगवान ने बताया कि एक सप्ताह से सिंचाई विभाग के अधिकारियों को फोन पर कटान की सूचना दी जा रही है पर अब तक कटान रोकने के लिए कोई बचाव कार्य ठोस स्तर पर नही हो रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sharda targets many Asian schools near school katan fast