ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश लखीमपुरखीरीआरटीई: निजी स्कूलों में पढ़ने को ढूंढे नहीं मिल रहे गरीब छात्र

आरटीई: निजी स्कूलों में पढ़ने को ढूंढे नहीं मिल रहे गरीब छात्र

गरीब परिवार के बच्चे भी निजी स्कूलों में पढ़ सकें इसके लिए निशुल्क अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम लागू किया गया...

आरटीई: निजी स्कूलों में पढ़ने को ढूंढे नहीं मिल रहे गरीब छात्र
default image
हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीTue, 18 Jun 2024 02:00 AM
ऐप पर पढ़ें

लखीमपुर। गरीब परिवार के बच्चे भी निजी स्कूलों में पढ़ सकें इसके लिए निशुल्क अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम लागू किया गया है। निजी स्कूलों को इन बच्चों का निशुल्क एडमिशन लेने के लिए निर्देश है। इस शैक्षिक सत्र में अब तक तीन चरण की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। अब चौथे चरण की आवेदन प्रक्रिया चल रही है। पर इस चरण के लिए आवेदन नहीं आ रहे हैं।
जिले में अब भी 4200 सीटें खाली हैं। निजी स्कूलों में एडमिशन कराने के लिए गरीब परिवार के अभिभावक बच्चों का एडमिशन कराने के लिए आवेदन कर सकते हैं। आरटीई के तहत अब तक हुई चयन प्रक्रिया की अगर बात की जाए तो तीन चरणों की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है।

पहले चरण में जिले में 357 बच्चों का चयन किया गया। वहीं दूसरी चरण की प्रक्रिया में 363 बच्चों का चयन करते हुए एडमिशन कराने को आदेश जारी किए गए। इसके अलावा तीसरे चरण में 227 बच्चों का चयन किया गया है। इनके आदेश विभाग ने जारी कर दिए हैं। कुल मिलाकर अब तक की प्रक्रिया की अगर बात की जाए तो 947 बच्चों का चयन करते हुए निजी स्कूलों में दाखिले को विभाग ने आदेश जारी किया है। जबकि 4200 सीटें अब भी खाली चल रही हैं। खास बात यह भी है कि जिन बच्चों के एडमिशन के लिए आदेश जारी किए गए हैं, उनमें भी तमाम अभिभावक भटक रहे हैं। निजी स्कूल संचालक इनका एडमिशन नहीं ले रहे हैं। अभिभावक बीईओ से लेकर बीएसए तक प्रार्थना पत्र लिए दौड़ रहे हैं। अब चौथे चरण की आवेदन प्रक्रिया चल रही है। 20 जून तक ऑनलाइन आवेदन किए जा सकते हैं। इसके बाद जांच व लाटरी से चयन किया जाएगा।

आरटीई के तहत चौथे चरण की आवेदन प्रक्रिया चल रही है। 20 जून तक ऑनलाइन आवेदन लिए जाएंगे। इच्छुक अभिभावक ऑनलाइन आवेदन करा दें जिससे बच्चों का एडमिशन निजी स्कूलों में कराया जा सके।

- प्रवीण तिवारी, बीएसए

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।