DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौगवां के गांव चौरी में तेज किया नदी ने कटान

नौगवां के गांव चौरी में तेज किया नदी ने कटान

दूसरे दिन भी शारदा नदी के जलस्तर में गिरावट दर्ज की गई। घटते जलस्तर से जहां बाढ़ का खतरा कम हुआ है वहीं भूकटान तेज हो गया है। उधर श्रीनगर गांव की तरफ पानी बढ़ने के बाद सिंचाई विभाग की तरफ से सावन माह शुरू होने के बाद होने वाली कांवड़ियों की भीड़ को देखते हुए फैंसिंग का कार्य कर दिया गया है।

नदी पर लाल पट्टी का निशान लगाया गया है जिसके बाहर रहकर कांवड़िए नदी से जल भर सकेंगें। किसी तरह का ई हादसा न हो सके इसको लेकर एक कर्मचारी की ड्यूटी भी तटबंध पर लगाई गई है। जो यहां आने वाले कांवड़ियों पर नजर रखेगा।हालांकि नदी अभी भी जल आयोग के खतरे के निशान से ऊपर चल रही है लेकिन बाढ़ का खतरा फिलहाल के लिए टला हुआ है। नदी का घटता जलस्तर ग्रामीणों को हमेशा से दिक्कतें पैदा करता है। इसका कारण है कि नदी में जलस्तर कम होने के बाद कटान तेज कर दिया है। जिससे ग्रामीणों की खेतिहर इलाके नदी में समाते जा रहे हैं। इलाके के श्रीनगर, दौलतापुर, देशराज टांडा, ढखिया खुर्द, आजादनगर, बर्बादनगर, मेलाघाट, कचनारा, मटैहिया आदि जगहों पर नदी ने तेजी से भूकटान करना शुरू कर दिया है। यहां पर पहले से ही कई एकड़ फसलों को शारदा अपने आगोश में समां चुकी है। उधर सावन माह शुरू होने के बाद शारदा नदी में बढ़ते-घटते जलस्तर को देखते हुए सिंचाई विभाग की ओर से भी शारदा नदी पर व्यवस्थाएं की गई हैं। विभाग की तरफ से लाल निशान लगाया गया है। जिसके बाहर ही होकर कांवड़िए जल भर सकेंगें। उधर चौरी में भूमि कटान तेज हो गया है। ग्रामीण भजन सिंह व धरमिंदर सिंह की कृषि योग्य भूमि को शारदा नदी की लहरों ने कटना शुरु कर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:River swept into Chauri village of Naugawan