DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेडीमेड खरीदी यूनिफार्म तो नहीं होगा भुगतान

रेडीमेड खरीदी यूनिफार्म तो नहीं होगा भुगतान

जुलाई महीने में स्कूल खुलने पर बच्चों को दो सेट नई ड्रेस मिल जाए। ड्रेस किसी भी सूरत में रेडीमेड न खरीदी जाए। बच्चों की नाप के अनुसार ड्रेस सिलवाई जाए। अगर ड्रेस पर टैग लिखा मिली और सत्यापन में यह सामने आया कि रेडीमेड खरीदी गई है तो भुगतान नहीं दिया जाएगा। यह निर्देश बुधवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित यूनिफार्म वितरण की जिला स्तरीय समिति की बैठक में डीएम शैलेन्द्र सिंह ने दिए।बैठक में डीएम ने सभी बीईओ को निर्देश दिया कि यूनीफार्म वितरण प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी होनी चाहिए। आपरेशन कायाकल्प में विद्यालयों में बाउण्ड्रीवाल रोड विद्यालयों में वृक्षारोपण कराया जाय। इससे विद्यालयों का वातावरण सुंदर और स्वच्छ बने। बीएसए ने बताया कि राज्य परियोजना कार्यालय से ड्रेस वितरण के लिए बजट मिल गया है।

विद्यालय प्रबन्ध समिति के खातों में 50 प्रतिशत पैसा भेज दिया गया है। ब्लॉक स्तर पर प्रभारी अधिकारी, बीईओ, विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष और सचिव यूनीफार्म वितरण और वित्तीय और प्रशासनिक नियमों की जानकारी देंगे। यूनीफार्म वितरण के लिए स्कूल प्रबंध समिति पूरी तरह उत्तरदायी होगा। डीएम ने कहा कि महिला समूहों से ड्रेस सिलवाई जाए। यूनीफार्म बच्चों की नाप की हो। बीईओ वितरण के दौरान यह देख लें कि टैग लगी रेडीमेड यूनीफार्म तो नहीं ली गई है। सत्यापन के बाद ही 50 प्रतिशत भुगतान किया जाएगा।

इसमें गड़बड़ी मिलने पर कठोर प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी। बीएसए कार्यालय में ड्रेस वितरण के लिए कंट्रोल रूम खोला गया है। इसका नंबर 05872-270282 है। इस पर शिकायतें दर्ज की जाएंगी। बैठक में वरिष्ठ कोषाधिकारी आंनद कुमार, प्राचार्य डायट ओपी गुप्ता, उपायुक्त उद्योग आरपी तिवारी, बीईओ पलिया, बीईओ बिजुआ सभी सभी खंड शिक्षा अधिकारी, जिला समन्वयक और सहायक वित्त एवं लेखाधिकारी सर्व शिक्षा अभियान उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Readymade Purchase Uniform Payment