Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखीमपुरखीरीपंचायत सहायक तैनात, अधूरे पंचायत घरों में कैसे हो कामकाज

पंचायत सहायक तैनात, अधूरे पंचायत घरों में कैसे हो कामकाज

हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीNewswrap
Mon, 29 Nov 2021 03:21 AM
पंचायत सहायक तैनात, अधूरे पंचायत घरों में कैसे हो कामकाज

लखीमपुर-खीरी।

पंचायत सहायकों की तैनाती हो चुकी है। पंचायत सहायकों को पंचायत भवनों में बैठ कर काम करना है। इसके लिए ग्राम पंचायत के कार्यालय के रूप में पंचायत भवन को तैयार करना है, लेकिन जिले में पंचायत भवन ही कंपलीट नहीं हो रहे हैं। हालात यह हैं कि नौ ग्राम पंचायत ऐसी हैं जहां भी जमीन ही फाइनल नहीं हो सकी है। वहीं 70 भवन ऐसे हैं जो अब तक पूरे नहीं हुए हैं। मंडलायुक्त ने पंचायत भवन के लिए जमीन न मिलने पर नाराजगी जताते हुए तुरंत जमीन उपलब्ध कराने को कहा है।

शासन की मंशा है कि ग्राम पंचायतों को ग्राम पंचायत का कार्यालय बनाया जाए। यहां कार्यालय का कामकाज देखने के लिए पंचायत सहायकों की तैनाती की गई है। सरकार की मंशा है कि इन पंचायत भवनों में सभी व्यवस्थाएं हों जिससे गांव वालों के कामकाज समय से हो सकें। जिले की 1165 ग्राम पंचायतों में पंचयत भवनों की दशा सुधारने का अभियान चलाया गया। 412 ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन नहीं हैं। शासन ने ग्राम निधि से एक पंचायत भवन के लिए 12 से 20 लाख रुपये का बजट निर्धारित किया। एक साल से ज्यादा का समय गुजर गया है, लेकिन जिन 70 पंचायत भवनों का निर्माण लटका हुआ है, उनमें नौ के लिए जमीन नहीं मिल पाई है। 10 प्लिंथ स्तर तक हैं, 18 छत स्तर तक तथा 47 में अभी प्लास्टर नहीं हो सका है। 753 पंचायत भवन पहले से बने हुए हैं और 333 नए बनाए गए हैं, लेकिन 70 का निर्माण पूरा न होने से जिले के सभी पंचायत भवनों में कामकाज शुरू नहीं हो पा रहा है।

बिना पंचायत भवन कहां काम करेंगे सहायक

-पंचायत भवनों को ग्राम पंचायत का कार्यालय बनाया जाएगा। यहां कम्प्यूटर भी रखा जाएगा जिससे पंचायत सहायक कामकाज करेंगे। करीब एक हजार पंचायत सहायकों की नियुक्ति हो गई है। उन्हें अब पंचायत भवनों में कामकाज शुरू होने का इंतजार है। लेकिन अधिकारियों की बेपरवाही के कारण पंचायत भवन सक्रिय नहीं हो पा रहे हैं। इस बारे में डीपीआरओ सौम्यशील सिंह का कहना है कि पंचायत भवन बनाने के लिए स्थानीय स्तर पर राजस्व विभाग से समन्वय बनाकर जमीन तलाश की जा रही है। जो पंचायत भवन अधूरे हैं, उन्हें जल्द पूरा करवाया जा रहा है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें