On request of Peer's attendance - पीर के आस्ताने पर हाजिरी देकर मांगी मन्नतें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीर के आस्ताने पर हाजिरी देकर मांगी मन्नतें

पीर के आस्ताने पर हाजिरी देकर मांगी मन्नतें

1 / 2खीरी टाउन-खीरी। मोहल्ला सैयदवाड़ा में मख़्दूम हज़रत सैयद खुर्द पीर का दो दिवसीय सालाना उर्स अकीदत व धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर अकीदतमंदों ने मज़ार पर चादरें चढ़ाई और मन्नतें मांगी। कस्बे के बीचो बीच...

पीर के आस्ताने पर हाजिरी देकर मांगी मन्नतें

2 / 2खीरी टाउन-खीरी। मोहल्ला सैयदवाड़ा में मख़्दूम हज़रत सैयद खुर्द पीर का दो दिवसीय सालाना उर्स अकीदत व धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर अकीदतमंदों ने मज़ार पर चादरें चढ़ाई और मन्नतें मांगी। कस्बे के बीचो बीच...

PreviousNext

मोहल्ला सैयदवाड़ा में मख़्दूम हज़रत सैयद खुर्द पीर का दो दिवसीय सालाना उर्स अकीदत व धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर अकीदतमंदों ने मज़ार पर चादरें चढ़ाई और मन्नतें मांगी। कस्बे के बीचोंबीच स्थित हजरत सैयद खुर्द का मकबरा दो दिनों तक अकीदतमंदों की निगाहों का मरकज बना रहा।

सालाना उर्स के मौके पर यहां बड़ी तादाद में अकीदतमंदों ने मज़ार पर हाज़िरी दी और मन्नतें मांगी। आस्ताना परिसर में दो दिनों तक लंगर का सिलसिला चलता रहा।उर्स के पहले दिन सुबह कुरआन ख्वानी और शाम को दरगाह परिसर में कई आयोजन हुए। इस मौके पर अकीदतमंदों ने सैयद खुर्द पीर के नाम से नियाज़ कराई और तबर्रुक वितरित किया। उर्स के पहले दिन कुरआन ख्वानी के साथ उर्स का आगाज़ किया गया। आस्ताने पर गागर, चादर, संदल और गुस्ल की रस्म अदा की गई। रात में आस्ताने पर महफिले समां का आयोजन किया गया। इसमें कव्वालों की कई टीमों ने सूफियाना कलाम पेश किये। इस दौरान अकीदतमंदों की खासी भीड़ उमड़ी। दूसरे दिन सुबह कुरआन ख्वानी के बाद शाम को मीलाद की महफ़िल सजाई गई। जिसमें आलिमों ने सीरते औलिया पर रौशनी डाली। इसके बाद महफिले समा का आयोजन हुआ। इसमें कव्वालों ने सूफ़ियाना कलाम पेश किये।

इस मौके पर अशफाक गौरी, इरफान गुड्डू, मुन्ना कुरेशी, फ़ारूक़, चुन्ना टेलर, रईस कुरैशी, हाजी मुन्ना, आदिल आदि ने अकीदतमंदों को लंगर तक्सीम किया। गुरुवार को अलसुबह सैयद खुर्द पीर का कुल शरीफ सलातो सलाम के साथ संपन्न हुआ। कुल शरीफ में बड़ी तादाद में अकीदतमंदों ने शिरकत की। इस मौके पर मुल्क की सलामती और खुशहाली की दुआएं मांगी गई। इसके बाद आस्ताने के खादिम मो.हनीफ उर्फ़ मंझले मियां व सज्जादा नशीन हारुन मियां ने अकीदतमंदों को तबर्रुक वितरित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:On request of Peer's attendance