DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखीमपुरखीरी  ›  गांव पहुंचा मुरादाबाद डीजीएम का शव, फफक पड़े लोग

लखीमपुरखीरीगांव पहुंचा मुरादाबाद डीजीएम का शव, फफक पड़े लोग

हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 10:40 PM
गांव पहुंचा मुरादाबाद डीजीएम का शव, फफक पड़े लोग

पलियाकलां-खीरी।

मुरादाबाद के बिलारी में राजा का सहसपुर स्थित लक्ष्मी शुगर मिल में डीजीएम पद पर तैनात पलिया के ढाका निवासी करनजीत धालीवाल की गोली लगने से मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम में रविवार की देर रात परिजन मृतक का शव लेकर घर पहुंचे। सोमवार की सुबह बड़ी संख्या में पहुंचे क्षेत्र के लोगों ने अंतिम विदाई दी। मृतक के परिजनों ने आत्महत्या से इनकार करते हुए घटना को हादसा करार दिया। उनका कहना था कि उनका बेटा कभी आत्महत्या कर ही नहीं सकता।

पलिया क्षेत्र के छोटे से गांव ढाका निवासी करनजीत क्षेत्र के युवाओं के लिए नजीर थे। बताया जाता है कि करनजीत अपनी शिक्षा के बाद विदेश जाकर नौकरी करने लगे थे। लेकिन उन्हें विदेश की धरती रास नहीं आई, जिसके बाद उन्होंने अपने देश वापसी की। एमएससी के इस होनहार छात्र ने वर्ष 2018 में जैविक खाद और नई तकनीक के माध्यम से अपने फॉर्म हाउस पर देश का सबसे पहला और लंबा 21 फीट का गन्ना पैदा किया। करनजीत की इस उपलब्धि में उनके नाम में चार चांद लगा दिए। पूरी दुनिया में दूसरे और भारत में करनजीत पहले ऐसे युवा किसान थे जिन्होंने नई तकनीक और जैविक खाद की मदद से 21 फीट लंबा गन्ना पैदा किया था। करनजीत की इस कामयाबी के बाद उन्हें देश के कई बड़े मंचों पर बुलाकर सम्मानित किया गया। मृतक करनजीत सिंह हमेशा क्षेत्र के युवा किसानों को विदेश ना जाकर देश की धरती पर कुछ नया करने की नसीहत देते थे। सरल स्वभाव और हसमुख मिजाज के होनहार युवा करनजीत के मौत की सूचना शनिवार की शाम जैसे ही पलिया सहित आसपास क्षेत्र में फैली लोग दंग रह गए। पिछले कुछ सालों से करनजीत मुरादाबाद के बिलारी में राजा का सहसपुर में स्थित लक्ष्मी शुगर मिल में डीजीएम पद पर कार्यरत थे। लोगों की मानें तो वह इस बात को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं कि करनजीत ने आत्महत्या की है। सोमवार की सुबह सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में पिता ने अपने होनहार बेटे की चिता की अग्नि दी। इस मंजर को देखकर मौजूद लोगों की आंखों में आंसू छलक उठे।

संबंधित खबरें