DA Image
23 अक्तूबर, 2020|10:59|IST

अगली स्टोरी

गोला में नहीं थम रहा अवैध खनन का कारोबार

गोला में नहीं थम रहा अवैध खनन का कारोबार

इन दिनों कोतवाली क्षेत्र में अवैध खनन का कारोबार चरम पर है। बीच चौराहे से ट्रालियां गुजरती हैं। प्रशासन देख कर भी इनकी अनदेखी कर रहा है।

खनन में लिप्त माफियाओं की अवैध मिटटी बालू खनन से भरी ट्रालियां सरेआम शहर के सदर चैराहे से गुजरती हुई कोतवाली में लगे सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में कैद होने के बाबजूद फर्राटा भर रही है। खनन माफियाओं के बुलंद हौसलों के चलते खनन का काम कर रहे लोग बेखौफ होकर अपने आका का नाम बताकर रौब गालिब करते हुए अवैध कारोबार को अंजाम दे रहे है। अवैध खनन को लेकर कार्रवाई के नाम पर स्थानीय प्रशासन सहित खनन निरीक्षक भी इस अवैध कारोबार को लेकर आंखे बंद किए है।

यही नहीं कोरोना संक्रमण काल में छूट मिलते ही मिट्टी बालू की इस खरीद फरोख्त में लिप्त माफिया खरीदार को मनमाने दामों पर मिटटी व बालू बेचकर गाढी कमाई कर रहे है। स्थानीय प्रशासन के इस ओर से बेखबर नहीं है। बेखबर होने का दिखावा किया जा रहा है। नियम कानून भी ताक पर रखकर निर्धारित खुदाई के बजाए जेसीबी से जमकर खुदाई कर शासनादेशों का मखौल उड़ाया जा रहा है। शहर में खनन के इस कारोबार में लिप्त चंद दिग्गज मनमाने तरीके से करोडों रुपये की संपत्ति बनाकर सरकार को राजस्व का चूना लगा रहे है। यहां तक कि कई माफियाओं के पास एक दर्जन से अधिक ट्रेक्टर, ट्राली व जेसीबी मशीन तक खुद की है। जिसके चलते इस खनन के धंधे पर पूरी तरह से अपना वर्चस्व कायम कर रखा है।

जब इस संबंध में एसडीएम अखिलेश यादव से बात की तो उनका कहना था कि खनन पर शिकंजा कसने के लिए शासन से नई गाइड लाइन आ चुकी है। जिस पर अधिकारियों के साथ बैठक कर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। खनन पर रोक थाम के लिए तहसीलदार विपिन कुमार द्विवेद्वी के कमान सौंपी जाएगी। इस नई गाइड लाइन के बाद परिणाम दिखाई पडने लगेगी। अवैध खनन पर पूरी तरह से शिकंजा कसा जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Illegal mining business did not stop in shell