DA Image
1 मार्च, 2021|3:33|IST

अगली स्टोरी

यहां तो फाइलें चबा रहीं दो लाख का च्विंगम

यहां तो फाइलें चबा रहीं दो लाख का च्विंगम

लखीमपुर खीरी।

खीरी जिले में दो लाख का च्विंगम फाइलें ही चबा रही हैं। अभी तक इस च्विंगम की खरीद नहीं हो सकी। खीरी जिले मे नशा उन्मूलन कार्यक्रम में अब निकोटिन का रगड़ा पड़ गया है। बहरहाल कुछ समय के लिए इनकी खरीद पर रोक लगा दी गयी है। वहीं अधिकारियों का कहना है निर्देश मिलते ही इनकी खरीद की जाएगी।

जिले मे नशामुक्ति अभियान महज कागजों मे ही चल रहा है। इसके पीछे वजह यह है कि इसके लिए स्टाफ की कमी चल रही है। इसके चलते जिला अस्पताल मे संचालित मनोरोग विभाग मे सिगरेट और तंबाकू छुड़ाने के लिए निकोटिन च्विंगम दिए जाते है। अब इनको लेकर भी दिक्कतें खड़ी हो गयी है।

बाक्स

चार एमजी को लेकर दिक्कतें

निकोटिन च्विंगम दो एमजी और चार एमजी मे दी जाती है। कम नशा करने वालों को दो एमजी और चैन स्मोकर को चार एमजी की च्विगंम दी जाती है। चार एमजी की च्विंगम ज्यादा पावर की होती है। इसको लेकर ही लोगों ने शिकायत की है।

बाक्स

दोनों की खरीद को मिलता है दो लाख रुपये का बजट

जिले मे निकोटिन खरीदने को दो लाख रुपये का बजट आता है। इसमे दोनो के लिए एक एक लाख रुपये की च्विंगम खरीदी जाती है।

बाक्स

निकोटिन के आदी हो जाते है लोग

सिगरेट और तंबाकू छुड़ाने के लिए स्वास्थ्य महकमा निकोटीन चिंगम खाने को देता है। इसके रैपर पर इसके खाने के तरीके और कैसे इसको धीरे-धीरे कम करना है पूरी जानकारी लिखी जाती है। इसके बाद भी लोग उस पर अमल न करके इसके आदमी बन रहे हैं ।

अधिकारी की बात

कुछ दिक्कतों के चलते निकोटिन च्विंगम की खरीद पर रोक लगाई गयीं थी। बहरहाल उच्चाधिकारियों से बात करने के बाद इनकी खरीद की जाएगी।

डा. मनोज अग्रवाल सीएमओ खीरी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Here chewing files worth Rs two lakh