ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश लखीमपुरखीरीक्रिकेट खेलने गए चार युवक घाघरा नदी में डूबे, तीन को बचाया, एक लापता

क्रिकेट खेलने गए चार युवक घाघरा नदी में डूबे, तीन को बचाया, एक लापता

ईसानगर से घाघरा नदी के किनारे क्रिकेट खेलने गए चार युवक घाघरा की तेज धार में बह गए। साथी खिलाड़ियों की चीख पुकार सुनकर नदी पर पहुंचे ग्रामीणों ने...

क्रिकेट खेलने गए चार युवक घाघरा नदी में डूबे, तीन को बचाया, एक लापता
हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीWed, 15 May 2024 12:00 AM
ऐप पर पढ़ें

खमरिया/ईसानगर। ईसानगर से घाघरा नदी के किनारे क्रिकेट खेलने गए चार युवक घाघरा की तेज धार में बह गए। साथी खिलाड़ियों की चीख पुकार सुनकर नदी पर पहुंचे ग्रामीणों ने तीन युवकों को घाघरा नदी से बाहर निकाल लिया। एक युवक को काफी मशक्कत के बाद भी नहीं तलाशा जा सका। सूचना पर ईसानगर थानाध्यक्ष देवेन्द्र गंगवार पुलिस बल ल साथ मौके पर पहुंचे और उपलब्ध स्थानीय संसाधनों की मदद से नदी में बह गए युवक को तलाश कराई। घाघरा नदी में डूबे चारों युवक ईसानगर कस्बे के रहने वाले थे।
ईसानगर कस्बे से युवाओं की एक टीम क्रिकेट खेलने मिर्जापुर गांव के पास घाघरा नदी के तट पर खाली पड़े मैदान में गई थी। क्रिकेट खेलने के बाद कई युवक घाघरा नदी में नहाने के लिए उतर गए। इन युवकों में से 20 साल के चांद पुत्र मैलू, 20 साल का शादाब पुत्र मरगूब, 18 वर्षीय नसरुद्दीन पुत्र अली अहमद और 17 साल का वजुजुद्दीन पुत्र मोहिउद्दीन निवासी सभी कस्बा ईसानगर घाघरा नदी की धार में बहकर डूबने लगे। साथ गए साथी खिलाड़ियों ने नदी तट से शोर मचाया और कुछ युवक मदद के लिए लोगों को बुलाने मिर्जापुर पहुंचे। जहां से बड़ी संख्या में ग्रामीण नदी तट पर आए और नदी में उतरकर युवकों की तलाश शुरू की। ग्रामीणों ने तीन युवकों शादाब,वजुहुद्दीन और नसरुद्दीन को घाघरा नदी से सुरक्षित बाहर निकाल लिया। अलबत्ता तमाम प्रयासों के बावजूद भी ग्रामीण चांद को तलाश नहीं कर पाए। बताते हैं कि घाघरा नदी में डूबे चांद की शादी अभी पिछले पखवारे ही हुई थी। ग्रामीणों की सूचना पर ईसानगर थानाध्यक्ष देवेन्द्र कुमार गंगवार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने घाघरा नदी से बाहर निकाले गए युवकों को इलाज के लिए ईसानगर पीएचसी भेजा। पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों और नाविकों की मदद लेकर चांद की तलाश करवाई। पर देर शाम तक चले अभियान में सफलता हाथ नहीं लगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।