DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुखार से एक बच्चे की मौत, 12 और भर्ती

बुखार से एक बच्चे की मौत, 12 और  भर्ती

जिले में बुखार का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। सिकंद्राबाद इलाके में एक बच्ची की बुखार से मौत हो गई। बुधवार को बुखार से पीड़ित विभिन्न क्षेत्रों के 12 बच्चे जिला अस्पताल में भर्ती कराए गए। इसमें गंभीर हालत के चलते दो बच्चों को लखनऊ रेफर किया गया है। लखनऊ रेफर होने वाले बच्चों में एक में एईएस की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने बुखार को देखते हुए सभी सीएचसी और पीएचसी में बुखार हेल्प डेस्क बनाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही नगर पंचायतों को भी आसपास के गांवों में दवा आदि छिड़काव के निर्देश दिए। बुधवार को जिला अस्पताल के चिल्डे्रन वार्ड में पलिया क्षेत्र के ग्राम पतवारा निवासी रामासरे के सात वर्षीय पुत्र आशीष, होलापुरवा निवासी सकटू के पांच वर्ष की बेटी काजल, गोला के गांव शिवपुरी निवासी रामप्रताप के 12 वर्ष के बेटे विवेक, शहर के मोहल्ला नौरंगाबाद के खुर्शीद की दो वर्ष की बेटी फजीला, धौरहरा क्षेत्र के ग्राम राजापुर निवासी विश्राम का सात माह का बेटा हिमांशु, यहीं के ग्राम लालजी पुरवा निवासी शाबिर की आठ वर्ष की बेटी रुखसार, ग्राम लौकिहा निवासी रामजीवन के चार वर्ष के बेटे विक्रम, मितौली क्षेत्र के ग्राम लक्ष्मननगर निवासी देवीदीन की आठ वर्ष की बेटी दीपा, धौरहरा क्षेत्र के ग्राम केशवापुर निवासी देवारी लाल के बारह वर्ष के बेटे शिवम, ग्राम मुराउन पुरवा निवासी राजेश के पांच वर्ष के बेटे ललित, फूलबेंहड़ क्षेत्र के ग्राम अचलापुर निवासी रामकुमार के आठ वर्ष के बेटे अरुण, शहर के इस्लाम नगर निवासी मुनव्वर की दो वर्ष की बेटी फलक को तेज बुखार और झटके आने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां गंभीर हालत होने के कारण आशीष और काजल को लखनऊ के लिए रेफर कर दिया गया है।

जिला अस्पताल की जांच रिपोर्ट के आधार पर आशीष में एईएस की पुष्टि हुई है। बाक्सतेज बुखार ने लेली बच्ची की जानसिकंद्राबाद-खीरी। सिकंद्राबाद क्षेत्र के ग्राम चमरौधा में रहने वाले मानू भारती की एक माह की बेटी को एक दिन पूर्व तेज बुखार आया था। इसे इलाज के लिए प्राइवेट डाक्टर के पास ले गए। डाक्टर के जवाब देने पर पीएचसी पर ले गए लेकिन वहां डाक्टर नहीं मिलने पर बच्ची को वापस ले आए। समय पर इलाज सुविधा न मिलने से बच्ची की मौत हो गई। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि बुखार का कहर चल रहा है इसके बाद भी सरकारी अस्पताल में डाक्टर आए दिन गायब रहते हैं। इसके चलते ही समय से इलाज न मिलने से बच्ची की मौत हो गईहै। बाक्सहेल्प डेस्क से मिलेगी बुखार पीड़ितों को सहायता जिले में बुखार के प्रकोप को देखते हुए सीएमओ डा. मनोज अग्रवाल ने बुखार पीड़ितों को राहत देने के लिए जिले के सभी सीएचसी और पीएचसी पर हेल्प डेस्क बनाने के निर्देश दिए हैं।

इन हेल्प डेस्क पर बुखार पीड़ितों को काउंसलर बुखार को लेकर जागरूक करेंगे, साथ ही इनका डाटा सीएमओ आफिस भेजने के निर्देश दिए गए हैं साथ ही बुखार पीड़ित की जांच के साथ इलाज की व्यवस्था की गई है। संबंधित व्यक्ति पीड़ित को बताएगा कि उन्हें बेहतर इलाज कहां मिलेगा। बाक्सपालिका और नगर पंचायतों की सहायता से होगी फागिंगस्वास्थ्य विभाग के पास केवल एक ही फागिंग मशीन है। इसलिए पूरे जिले में फागिंग और छिड़काव आदि की दिक्कत होती है। इसे देखते हुए सीएमओ डा. मनोज अग्रवाल ने डीएम को लिखकर मदद मांगी है। डीएम ने सभी पंचायतों और नगर पालिकाओं को निर्देश दिए हैं कि वे लोग संसाधनों से छिड़काव की व्यवस्था कराएं दवा की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग कराएगा। इनके साथ मलेरिया विभाग के कर्मचारी भी मौजूद रहेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Failure to kill a child 12 more recruits