DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बनते ही ढह गई तटबंध की सुरक्षा दीवार, गुणवत्ता पर सवाल

बनते ही ढह गई तटबंध की सुरक्षा दीवार, गुणवत्ता पर सवाल

तटबंध की सुरक्षा के लिए दोनों ओर बनाई गई दीवार की गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे हैं। सिंचाई विभाग द्वारा तटबंध में करवाए जा रहे मरम्मत कार्य में धांधली का आरोप लग रहा है। कुछ दिन पहले ही मिट्टी बहाव को रोकने के लिए तटबंध से सटकर बनाई गई दीवार कई जगहों पर धरासाई हो गई। अगर तटबंध पर पानी का दबाव बढ़ा तो तटबंध फट सकता है।

फूलबेहड़ में शारदा तटबंध को मजबूत करने के लिए प्रोजेक्ट स्वीकृत हुआ। करोड़ो का बजट पास हुआ। शुरू से ही काम में मानको की अनदेखी की गयी। कहीं मिट्टी की जगह बालू से पटान किया गया तो कहीं कम सीमेंट लगाकर दीवार की चुनाई की गयी। मीलपुर्वा से जंगपुर व श्रीनगर से खगईपुर्वा तक दो टुकड़ों में कार्य करवाया गया। वहीं जंगपुर और श्रीनगर के बीच 800 मीटर छोड़ दिया गया। इस बीच के छूटे कार्य के लिए भी लोगों ने विरोध किया तो विभागीय लोगों ने यह बताया कि इतनी दूरी का प्रोजेक्ट पास नहीं हुआ है।

तटबंध के भीतरी हिस्से में बोल्डर लगाया गया और मिट्टी से भरी बोरियां लगायी गयीं ताकि अंदर से कटान न हो। तटबंध के ऊपर मिट्टी बहाव को रोकने लिए दोनो साइड में दीवार बनायी गयी। लेकिन बाएं साइड (बाहरी साइड) में जो दीवार बनायी गयी वह 50 सेमी ऊंची व 9 इंच चौड़ी बनायी गयी। यह दीवार एक बरसात भी नहीं झेल पायी। कई जगह मिट्टी के साथ दीवार भी बह गयी। इससे साफ अंदाजा लगाया जा रहा है कि चुनाई में घटिया मसाला का इस्तेमाल किया जा रहा है। मजे की बात यह कि विभागीय अधिकारी इस सब से बेखबर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Embankment collapsing security wall questioning quality