DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लॉकों से अब वीडियोकान्फ्रेंसिंग से सीडीओ करेंगे समीक्षा

ब्लॉकों से अब वीडियोकान्फ्रेंसिंग से सीडीओ करेंगे समीक्षा

सीडीओ अब विकास भवन में अपने चैम्बर में बैठकर ब्लॉकों पर पूरी नजर रखेंगे। ब्लॉकों की समीक्षा के लिए बीडीओ को अब जिला मुख्यालय दौड़कर आने की जरूरत नहीं है बल्कि ब्लॉक के ही कम्प्यूटर के सामने बैठना होगा और सीडीओ वीडियोकान्फ्रेंसिंग के जरिए सीधे वार्ता करेंगे। ब्लॉक के कर्मचारियों की उपस्थिति भी देखी जा सकती है। इसके लिए सभी बीडीओ से वेब कैमरा खरीदने को कहा गया है। क्षेत्रफल की दृष्टि ये यूपी का सबसे बड़ा खीरी जिला है। कई ब्लॉक तो 80 से 90 किलोमीटर की दूरी पर हैं। ब्लॉकों के कामकाज की समीक्षा के लिए बीडीओ को इतनी दूरी तय करके विकास भवन आना होता था। इससे पूरा दिन लग जाता था वहीं डीजल भी बर्बाद होता था। अब सीडीओ ने वीडियोकान्फ्रेंसिंग के जरिए ब्लॉकों की समीक्षा करने की कार्ययोजना बनाई है। इसके लिए सभी बीडीओ को निर्देश दिया गया है कि वह एक वेबकैमरा खरीदें और अपने ब्लॉक के कम्प्यूटर में इसे स्टॉल करवा लें। जब भी समीक्षा की जरूरत पड़ेगी अपने ब्लॉक के कम्प्यूटर के सामने बैठना होगा और सीडीओ सीधे रूबरू होकर समीक्षा करेंगे। इससे जहां बीडीओ का समय बचेगा वहीं कामकाज और तेजी से होगा। सीडीओ रवि रंजन ने बताया कि काम तेज करने के लिए यह व्यवस्था की गई है।

ब्लॉकों पर समय से पहुंचना होगा कर्मियों को

ब्लॉकों पर वीडियोकान्फ्रेंसिंग की व्यवस्था होने के बाद अधिकारियों व कर्मचारियों को समय से ब्लॉकों पर पहुंचना होगा। सीडीओ किसी भी समय अधिकारियों व कर्मचारियों की उपस्थिति चेक कर सकेंगे। इसके लिए कर्मचारियों की पूरी सूची पहले से उपलब्ध है। इसके हिसाब से कर्मचारियों को तुरंत कैमरे के सामने आना होगा। न आने पर अनुपस्थित माना जा सकता है। बताते चलें कि कई ब्लॉकों के बीडीओ, कर्मचारी जिला मुख्यालय पर रहते हैं जो दोपहर 11 के बजे के बाद ही कार्यालय जाते हैं और शाम पांच बजे से पहले ही रवाना हो जाते हैं। इस व्यवस्था से इनपर शिकंजा भी कसेगा।

तहसीलों में व्यवस्था करा दो डीएम साब!

ब्लॉकों की तरह ही तहसीलों में भी वीडियोकान्फ्रेंसिंग की व्यवस्था जरूरी है। क्योंकि लगभग सभी एसडीएम जिला मुख्यालय पर रहते हैं। तहसीलों की दूरी भी 80 से 90 किलोमीटर है। रोज आने-जाने में हजारों रुपए का डीजल फुंकता है। वहीं कई एसडीएम तो सुबह 10 बजे के बाद अपनी तहसील को जिला मुख्यालय से रवाना होते हैं। ऐसे में सरकार के निर्धारित जनता दर्शन के समय के बाद यह डिप्टी कलेक्टर तहसील पहुंचते हैं। इनके तहसील समय पर न पहुंचने लोग शिकायत लेकर जिला मुख्यालय तक दौड़ते हैं।

ब्लॉकों पर कम्प्यूटर लगे हैं। इण्टरनेट कनेक्शन भी है। वीडियोकान्फ्रेंसिंग के लिए सिर्फ एक वेब कैमरा खरीदना होगा। इसके लिए सभी बीडीओ से कहा गया है। वीडियोकान्फ्रेंसिंग से समीक्षा होगी तो बीडीओ का समय बचेगा और कामकाज तेजी से होगा। जिला मुख्यालय पर समीक्षा के लिए आने पर दूर-दराज के बीडीओ का पूरा समय लग जाता था। समय को बचाने कामकाज तेज करने के लिए यह व्यवस्था कराई जा रही है।

रवि रंजन, सीडीओ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CDO will now review the video conferencing from the blocks