DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखीमपुरखीरी  ›  पीएम केयर्स फंड से मिला बजट, तीन सप्ताह में लगेगा आक्सीजन प्लांट

लखीमपुरखीरीपीएम केयर्स फंड से मिला बजट, तीन सप्ताह में लगेगा आक्सीजन प्लांट

हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीPublished By: Newswrap
Sat, 08 May 2021 03:13 AM
पीएम केयर्स फंड से मिला बजट, तीन सप्ताह में लगेगा आक्सीजन प्लांट

लखीमपुर/ओयल-खीरी।

आक्सीजन को लेकर जिले में चल रही किल्लत के बीच राहत वाली खबर सामने आई है। पीएम केयर्स फंड से बजट मिल गया है। ओयल के मातृ शिशु अस्पताल को कोविड अस्पताल बनाया जा रहा है। यहां आक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। डीएम शैलेन्द्र सिंह ने दावा किया है कि दो से तीन सप्ताह में आक्सीजन प्लांट पूरा कर लिया जाएगा। आक्सीजन प्लांट गेल इंडिया लिमिटेड लगाएगी। डीएम ने अस्पताल का निरीक्षण किया और जल्द इस अस्पताल को कोविड अस्पताल बनाने का निर्देश दिया।

डीएम शैलेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को कस्बा ओयल मोतीपुर निर्माणाधीन जच्चा बच्चा अस्पताल का निरीक्षण किया। इसका भवन बनकर तैयार हो चुका है। इसको फिलहाल कोविड अस्पताल बनाया जा रहा है। डीएम ने सीएमओ के साथ अस्पताल का निरीक्षण किया। डीएम ने निर्देश दिया कि शीघ्र सारी तैयारियां पूरी कर ले एक सप्ताह में कोविड-19 अस्पताल चालू कर दिया जाएगा। डीएम ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट लगाने की भी मंजूरी मिल गई है। पीएम केयर्स फंड से इसका पैसा भी सैंक्शन हो गया है। गेल इंडिया लिमिटेड ऑक्सीजन प्लांट लगाने का काम करेगी, दो से तीन सप्ताह में पूरा कर लिया जाएगा। तब तक ऑक्सीजन सिलेंडर से ऑक्सीजन की आपूर्ति मरीजों के लिए की जाएगी। डीएम ने बिजी आपूर्ति के लिए विभाग को निर्देश दिए हैं तुरंत आपूर्ति शुरू कराई जाए। जूनियर इंजीनियर बिजली ओयल दिवाकर ने बताया ओयल पावर हाउस से अस्पताल के लिए अलग फीडर खींचकर बिजली आपूर्ति 24 घंटे की जा रही है।

बाक्स

कोविड अस्पताल को पूरा नहीं हो रहा एक सप्ताह

-जिले में कोविड अस्प्ताल नहीं हैं। रोज चार से पांच सौ संक्रमित मिल रहे हैं। हालात यह हैं कि जिला अस्पताल में फर्श पर इलाज हो रहा है। कोविड अस्पताल प्रशासन नहीं बना सका है। ओयल में 200 बेड का अस्पताल भवन बनकर तैयार है। प्रशासनिक लापरवाही का खामियाजा मरीज भुगत रहे हैं। पड़ोसी जिलों, बड़े जिलों में कोविड अस्पताल एक सप्ताह में बन गए। यहां भवन तैयार है। व्यवस्थाएं करनी हैं, लेकिन प्रशासन एक साल में अस्पताल नहीं बनवा सका है। फिल एक बार शुक्रवार को डीएम ने अस्पताल का निरीक्षण किया। एक सप्ताह की आश्वासन की घुट्टी में सप्ताह पूरा नहीं हो रहा है। हर बार एक सप्ताह में शुरू करने की बात कही जा रही है। साहब अब आश्वासन नहीं बल्कि तड़प रहे मरीजों के लिए अस्पताल की जरूरत है।

संबंधित खबरें