ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश लखीमपुरखीरीगर्मी बढ़ी तो बदला बार्किंग डियर का स्वभाव, आ रहे सामने

गर्मी बढ़ी तो बदला बार्किंग डियर का स्वभाव, आ रहे सामने

गर्मी के मौसम ने वन्यजीवों का स्वभाव भी बदल दिया है। अब तक घने जंगलों के अंदर छिपकर रहने वाला, शर्मीले स्वभाव का बार्किंग डियर भी खुलकर सामने आ रहा...

गर्मी बढ़ी तो बदला बार्किंग डियर का स्वभाव, आ रहे सामने
हिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरखीरीTue, 18 Jun 2024 02:00 AM
ऐप पर पढ़ें

लखीमपुर। गर्मी के मौसम ने वन्यजीवों का स्वभाव भी बदल दिया है। अब तक घने जंगलों के अंदर छिपकर रहने वाला, शर्मीले स्वभाव का बार्किंग डियर भी खुलकर सामने आ रहा है। वह पानी की तलाश में वाटर होलों के पास दिख रहा है। हिरन प्रजाति के इस जीव को देखकर लोग खुश भी हैं और हैरत में भी।
गर्मी में दुधवा टाइगर रिजर्व की सभी रेंजों में गर्मी में वन्यजीवों के लिए वाटर होल बनवाए गए थे। इन्हीं वाटर होल पर वन्यजीव आजकल दिन और शाम को जमा होते हैं। दुधवा प्रशासन ने वाटर होल का सर्वे कराना शुरू किया। सात दिनों तक यह देखा गया कि कौन से वन्यजीव वाटर होल के पास ज्यादा आ रहे हैं। वाटर होल के पास सबसे ज्यादा बाघ और हिरनों की मौजूदगी थी और हिरनों में भी पहली बार बार्किंग डियर सबके सामने आ रहे थे। इनको छह अलग-अलग वाटर होल के पास देखा गया। इनके बदले व्यवहार से जानकार भी हैरत में हैं। डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के वरिष्ठ परियोजना अधिकारी दबीर हसन का कहना है कि दुधवा में हिरनों की पांच प्रजातियां पाई जाती हैं। इनमें सबसे छोटे आकार का हिरन काकड़ होता है। इसे ही बार्किंग डियर कहा जाता है। वजह है कि रात को अक्सर यह ऐसी आवाज निकालता है, जिसे लोग भौंकना समझ लेते हैं। यह हिरन प्रजाति दुधवा में वास करती तो है, लेकिन सैलानियों या किसी भी इंसान के सामने बहुत कम आता है। पर अब इनके लगातार देखे जाने से जानकार भी हैरत में हैं। दुधवा के निदेशक ललित वर्मा ने बताया कि देश में हिरनों की आठ प्रजातियों में से दुधवा में पांच पाई जाती हैं। इनमें बारहसिंगा, चीतल, पाढ़ा, सांभर और कांकड़ आदि प्रजातियां शामिल हैं। दुधवा में वाटर होल वन्यजीवों की आवश्यकता के अनुसार बनाए गए हैं। वहां कैमरों के जरिए भी निगरानी हो रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।