65/5000 khaate mein ek bhee rupaya nahin, phir bhee jama aur nikaale lie 1 laakh 70 hajaar Not a single rupee in the account, yet 1 lakh 70 thousand for deposits and withdrawals - खाते में एक भी रुपया नहीं, फिर भी जमा और निकाले लिए 1 लाख 70 हजार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाते में एक भी रुपया नहीं, फिर भी जमा और निकाले लिए 1 लाख 70 हजार

खम्हौल की इलाहाबाद बैंक में नोटबंदी के दौरान एक किसान के साथ धोखाधड़ी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। खाताधारक ने बैंक के उच्चाधिकारियों को शिकायत भेजकर कार्रवाई की मांग की। उसके बाद खाता धारक के एकाउंट पर रोक लगा दी गई जिससे वह पाई-पाई के लिए परेशान घूम रहा है।

मामला कोतवाली क्षेत्र के ग्राम चिंतापुरवा निवासी छेदालाल का है। उनका कहना है कि उन्हें पता ही नहीं चला और उनके खाते से शाखा प्रबंधक ने धोखाधड़ी कर कागजों में इंट्री दर्शा दी। इसका पता खाता धारक को कई महीने बाद चला। जब वह अपनी पासबुक ठीक कराने के लिए बैंक जाता था शाखा प्रबंधक उसे टरका कर वापस कर देते थे। छेदालाल का कहना है कि खम्हौल की इलाहाबाद बैंक में उनका एक बचत खाता है और केसीसी भी संचालित है।

केसीसी से वह पूरे रुपए निकाल चुके थे। उसके बाद 30 दिसम्बर 2016 को उनके केसीसी खाते में एक लाख 70 हजार रुपए जमा किए गए। उसके बाद 3 जनवरी 2017 को उनके खाते से एक लाख 70 हजार रुपए निकाल लिए जबकि न तो उनके बचत खाता में भी रुपया था और न ही केसीसी में। जब उन्होंने इस सम्बंध में जन सूचना अधिकार कानून के तहत जानकारी मांगी तो बताया गया कि गलती से उनके केसीसी खाते से एक लाख 70 हजार रुपए बचत खाते से ट्रांसफर हो गए। बैंक के इस खेल से किसान ऋण मोचन योजना से भी वंचित रह गया और जब शिकायत की तो उसका खाता भी लॉक कर दिया गया है। वह खेती किसानी और पारिवारिक जरूरतों के लिए गन्ना भुगतान का खाते में आया पैसा निकालने के लिए घूम रहा है। उसे हर बार टरका दिया जाता है। छेदालाल का कहना है कि शाखा प्रबंधक उससे सादे कागज पर हस्ताक्षर करने का दबाव डाल रहे हैं।

तो किनारे कर दिए नियम: बतातें हैं कि हर बैंकों में कैश का मिलान शाखा बंद होने के बाद शाम को किया जाता है। उसके बाद भी पांच दिनों तक एक लाख 70 हजार रुपए का मिलान बैंक कर्मियों ने नहीं किया जिससे खातेदार के साथ धोखाधड़ी का मामला सामने आ रहा है। बैंक स्टेटमेंट और बैंक पासबुक में दो लाख 11 हजार रुपए की कोई एंट्री नहीं है जबकि बैंक के मुख्य प्रबंधक द्वारा लिखित जवाब में बताया गया है कि गल्ती से उसके केसीसी खाते से दो लाख 11 हजार रुपए बचत खाते में अंतरित हो गए थे। छेदालाल का खाता एनपीए हो गया है जिस कारण उसके बचत खाते में जमा गन्ने का पैसा रोका गया है। ऋषि कुमार, शाखा प्रबंधक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 65/5000 khaate mein ek bhee rupaya nahin, phir bhee jama aur nikaale lie 1 laakh 70 hajaar Not a single rupee in the account, yet 1 lakh 70 thousand for deposits and withdrawals